राष्ट्रभाषा के बिना आजादी बेकार है। - अवनींद्रकुमार विद्यालंकार।

Find Us On:

Hindi English
Loading

ग़ज़लें

 
 
ग़ज़ल क्या है? यह आलेख उनके लिये विशेष रूप से सहायक होगा जिनका ग़ज़ल से परिचय सिर्फ पढ़ने सुनने तक ही रहा है, इसकी विधा से नहीं। इस आधार आलेख में जो शब्‍द आपको नये लगें उनके लिये आप ई-मेल अथवा टिप्‍पणी के माध्‍यम से पृथक से प्रश्‍न कर सकते हैं लेकिन उचित होगा कि उसके पहले पूरा आलेख पढ़ लें; अधिकाँश उत्‍तर यहीं मिल जायेंगे। एक अच्‍छी परिपूर्ण ग़ज़ल कहने के लिये ग़ज़ल की कुछ आधार बातें समझना जरूरी है। जो संक्षिप्‍त में निम्‍नानुसार हैं: ग़ज़ल- एक पूर्ण ग़ज़ल में मत्‍ला, मक्‍ता और 5 से 11 शेर (बहुवचन अशआर) प्रचलन में ही हैं। यहॉं यह भी समझ लेना जरूरी है कि यदि किसी ग़ज़ल में सभी शेर एक ही विषय की निरंतरता रखते हों तो एक विशेष प्रकार की ग़ज़ल बनती है जिसे मुसल्‍सल ग़ज़ल कहते हैं हालॉंकि प्रचलन गैर-मुसल्‍सल ग़ज़ल का ही अधिक है जिसमें हर शेर स्‍वतंत्र विषय पर होता है। ग़ज़ल का एक वर्गीकरण और होता है मुरद्दफ़ या गैर मुरद्दफ़। जिस ग़ज़ल में रदीफ़ हो उसे मुरद्दफ़ ग़ज़ल कहते हैं अन्‍यथा गैर मुरद्दफ़।
 
Literature Under This Category
 
मैंने लिखा कुछ भी नहीं | ग़ज़ल  - डॉ सुधेश
मैंने लिखा कुछ भी नहीं
तुम ने पढ़ा कुछ भी नहीं ।

 
ज़रा सा क़तरा कहीं आज गर उभरता है | ग़ज़ल  - वसीम बरेलवी | Waseem Barelvi
ज़रा सा क़तरा कहीं आज गर उभरता है
समन्दरों ही के लहजे में बात करता है

ख़ुली छतों के दिये कब के बुझ गये होते
कोई तो है जो हवाओं के पर कतरता है

शराफ़तों की यहाँ कोई अहमियत ही नहीं
किसी का कुछ न बिगाड़ो तो कौन डरता है

ज़मीं की कैसी विक़ालत हो फिर नहीं चलती
जब आसमां  से  कोई  फ़ैसला उतरता है

तुम आ गये हो तो फिर चाँदनी सी बातें हों
ज़मीं पे चाँद  कहाँ रोज़ रोज़ उतरता है

 
वसीम बरेलवी की ग़ज़ल  - वसीम बरेलवी | Waseem Barelvi
मैं इस उम्मीद पे डूबा कि तू बचा लेगा
अब इसके बाद मेरा इम्तिहान क्या लेगा

 
भूल कर भी न बुरा करना | ग़ज़ल  - डा. राणा प्रताप सिंह गन्नौरी 'राणा'
भूल कर भी न बुरा करना
जिस क़दर हो सके भला करना।

सीखना हो तो शमअ़ से सीखो
दूसरों के लिए जला करना।

 
झील, समुंदर, दरिया, झरने उसके हैं | ग़ज़ल  - कृष्ण सुकुमार | Krishna Sukumar
झील, समुंदर, दरिया, झरने उसके हैं
मेरे तश्नालब पर पहरे उसके हैं

 
तमाम घर को .... | ग़ज़ल  - ज्ञानप्रकाश विवेक | Gyanprakash Vivek

तमाम घर को बयाबाँ बना के रखता था
पता नहीं वो दीए क्यूँ बुझा के रखता था

बुरे दिनों के लिए तुमने गुल्लक्कें भर लीं,
मै दोस्तों की दुआएँ बचा के रखता था

वो तितलियों को सिखाता था व्याकरण यारों-
इसी बहाने गुलों को डरा के रखता था

न जाने कौन चला आए वक़्त का मारा,
कि मैं किवाड़ से सांकल हटा के रखता था

हमेशा बात वो करता था घर बनाने की
मगर मचान का नक़्शा छुपा के रखता था

मेरे फिसलने का कारण भी है यही शायद,
कि हर कदम मैं बहुत आज़मा के रखता था

-ज्ञानप्रकाश विवेक

 
हो गई है पीर पर्वत-सी | दुष्यंत कुमार  - दुष्यंत कुमार | Dushyant Kumar
हो गई है पीर पर्वत-सी पिघलनी चाहिए
इस हिमालय से कोई गंगा निकलनी चाहिए

आज यह दीवार, परदों की तरह हिलने लगी
शर्त लेकिन थी कि ये बुनियाद हिलनी चाहिए

हर सड़क पर, हर गली में, हर नगर, हर गाँव में
हाथ लहराते हुए हर लाश चलनी चाहिए

सिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहीं
मेरी कोशिश है कि ये सूरत बदलनी चाहिए

मेरे सीने में नहीं तो तेरे सीने में सही
हो कहीं भी आग, लेकिन आग जलनी चाहिए

 
राजगोपाल सिंह की ग़ज़लें  - राजगोपाल सिंह
राजगोपाल सिंह की ग़ज़लें भी उनके गीतों व दोहों की तरह सराही गई हैं। यहाँ उनकी कुछ ग़ज़लें संकलित की जा रही हैं।

 
इन चिराग़ों के | ग़ज़ल  - राजगोपाल सिंह
इन चिराग़ों के उजालों पे न जाना, पीपल
ये भी अब सीख गए आग लगाना, पीपल

 
अदम गोंडवी की ग़ज़लें  - अदम गोंडवी
अदम गोंडवी को हिंदी ग़ज़ल में दुष्यन्त कुमार की परंपरा को आगे बढ़ाने वाला शायर माना जाता है। राजनीति, लोकतंत्र और व्‍यवस्‍था पर करारा प्रहार करती अदम गोंडवी की ग़ज़लें जनमानस की आवाज हैं। यहाँ उन्हीं की कुछ गज़लों का संकलन किया जा रहा है।

 
आँख पर पट्टी रहे | ग़ज़ल  - अदम गोंडवी
आँख पर पट्टी रहे और अक़्ल पर ताला रहे
अपने शाहे-वक़्त का यूँ मर्तबा आला रहे

 
उदयभानु हंस की ग़ज़लें  - उदयभानु हंस | Uday Bhanu Hans
उदयभानु हंस का ग़ज़ल संकलन

 
हमने अपने हाथों में  - उदयभानु हंस | Uday Bhanu Hans
हमने अपने हाथों में जब धनुष सँभाला है,
बाँध कर के सागर को रास्ता निकाला है।

 
कुंअर बेचैन ग़ज़ल संग्रह  - कुँअर बेचैन
कुंअर बेचैन ग़ज़ल संग्रह - यहाँ डॉ० कुँअर बेचैन की बेहतरीन ग़ज़लियात संकलित की गई हैं। विश्वास है आपको यह ग़ज़ल-संग्रह पठनीय लगेगा।

 
अपना जीवन.... | ग़ज़ल  - कुँअर बेचैन
अपना जीवन निहाल कर लेते
औरों का भी ख़याल कर लेते

 
निराला की ग़ज़लें  - सूर्यकांत त्रिपाठी 'निराला' | Suryakant Tripathi 'Nirala'
निराला का ग़ज़ल संग्रह - इन पृष्ठों में निराला की ग़ज़लें संकलित की जा रही हैं। निराला ने विभिन्न विधाओं में साहित्य-सृजन किया है। यहाँ उनके ग़ज़ल सृजन को पाठकों के समक्ष लाते हुए हमें बहुत प्रसन्नता हो रही है।

 
भगत सिंह को पसंद थी ये ग़ज़ल  - भारत-दर्शन संकलन | Collections
उन्हें ये फिक्र है हर दम नई तर्ज़-ए-जफ़ा क्या है
हमें ये शौक़ है देखें सितम की इंतिहा क्या है

 
सामने गुलशन नज़र आया | ग़ज़ल  - डॉ सुधेश
सामने गुलशन नज़र आया
गीत भँवरे ने मधुर गाया ।

फूल के संग मिले काँटे भी
ज़िन्दगी का यही सरमाया ।

उन की महफ़िल में क़दम मेरा
मैं बडी गुस्ताखी कर आया ।

आँख में भर कर उसे देखा
फिर रहा हूँ तब से भरमाया ।

चोट ऐसी वक्त ने मारी
गीत होंठों ने मधुर गाया ।

धुंध ऐसी सुबह को छाई
शाम का मन्जर नज़र आया ।

आँख टेढ़ी जब हुई उन की
ज़िन्दगी ने बस क़हर ढाया ।

 
कबीर की हिंदी ग़ज़ल  - कबीरदास | Kabirdas
क्या कबीर हिंदी के पहले ग़ज़लकार थे? यदि कबीर की निम्न रचना को देखें तो कबीर ने निसंदेह ग़ज़ल कहीं है:

 
ताज़े-ताज़े ख़्वाब | ग़ज़ल  - कृष्ण सुकुमार | Krishna Sukumar
ताज़े-ताज़े ख़्वाब सजाये रखता है
यानी इक उम्मीद जगाये रखता है

 
किसी के दुख में .... | ग़ज़ल  - ज्ञानप्रकाश विवेक | Gyanprakash Vivek
किसी के दुख में रो उट्ठूं कुछ ऐसी तर्जुमानी दे
मुझे सपने न दे बेशक, मेरी आंखों को पानी दे

मुझे तो चिलचिलाती धूप में चलने की आदत है
मेरे भगवान, मेरे शहर को शामें सुहानी दे

ये रद्दी बीनते बच्चे जो गुम कर आए हैं सपने
किसी दिन के लिए तू इनको परियों की कहानी दे

ख़ुदाया, जी रहा हूं यूं तो मैं तेरे ज़माने में
चराग़ों की तरह मिट जाऊं ऐसी ज़िन्दगानी दे

जिसे हम ओढ़ के करते थे अकसर प्यार की बातें
तू सबकुछ छीन ले मेरा वही चादर पुरानी दे

मेरे भगवान, तुझसे मांगना अच्छा नहीं लगता
अगर तू दे सके तो ख़ुश्क दरिया को रवानी दे

यहां इंसान कम, ख़रीदार आते हैं नज़र ज्यादा
ये मैंने कब कहा था मुझको ऐसी राजधानी दे। 

-ज्ञानप्रकाश विवेक

 
इस नदी की धार में | दुष्यंत कुमार  - दुष्यंत कुमार | Dushyant Kumar
इस नदी की धार में ठंडी हवा आती तो है
नाव जर्जर ही सही, लहरों से टकराती तो है

एक चिनगारी कहीं से ढूँढ लाओ दोस्तों
इस दिए में तेल से भीगी हुई बाती तो है

एक खंडहर के हृदय-सी, एक जंगली फूल-सी
आदमी की पीर गूंगी ही सही, गाती तो है

एक चादर साँझ ने सारे नगर पर डाल दी
यह अँधेरे की सड़क उस भोर तक जाती तो है

निर्वसन मैदान में लेटी हुई है जो नदी
पत्थरों से, ओट में जा-जाके बतियाती तो है

दुख नहीं कोई कि अब उपलब्धियों के नाम पर
और कुछ हो या न हो, आकाश-सी छाती तो है

 
मैं रहूँ या न रहूँ | ग़ज़ल  - राजगोपाल सिंह
मैं रहूँ या न रहूँ, मेरा पता रह जाएगा
शाख़ पर यदि एक भी पत्ता हरा रह जाएगा

 
हिन्‍दू या मुस्लिम के | ग़ज़ल  - अदम गोंडवी
हिन्‍दू या मुस्लिम के अहसासात को मत छेड़िए
अपनी कुरसी के लिए जज्‍बात को मत छेड़िए

 
सीता का हरण होगा  - उदयभानु हंस | Uday Bhanu Hans
कब तक यूं बहारों में पतझड़ का चलन होगा?
कलियों की चिता होगी, फूलों का हवन होगा ।

 
कोई फिर कैसे.... | ग़ज़ल  - कुँअर बेचैन
कोई फिर कैसे किसी शख़्स की पहचान करे
सूरतें सारी नकाबों में सफ़र करती हैं

 
मैं अपनी ज़िन्दगी से | ग़ज़ल  - कृष्ण सुकुमार | Krishna Sukumar
मैं अपनी ज़िन्दगी से रूबरू यूँ पेश आता हूँ
ग़मों से गुफ़्तगू करता हूँ लेकिन मुस्कुराता हूँ

 
मैं जिसे ओढ़ता -बिछाता हूँ | दुष्यंत कुमार  - दुष्यंत कुमार | Dushyant Kumar
मैं जिसे ओढ़ता -बिछाता हूँ
वो गज़ल आपको सुनाता हूँ।

 
अजनबी नज़रों से | ग़ज़ल  - राजगोपाल सिंह
अजनबी नज़रों से अपने आप को देखा न कर
आइनों का दोष क्या है? आइने तोड़ा न कर

 
काजू भुने पलेट में | ग़ज़ल  - अदम गोंडवी
काजू भुने पलेट में, विस्की गिलास में
उतरा है रामराज विधायक निवास में

 
सपने अगर नहीं होते | ग़ज़ल  - उदयभानु हंस | Uday Bhanu Hans
मन में सपने अगर नहीं होते,
हम कभी चाँद पर नहीं होते ।

 
भरोसा इस क़दर मैंने | ग़ज़ल  - कृष्ण सुकुमार | Krishna Sukumar
भरोसा इस क़दर मैंने तुम्हारे प्यार पर रक्खा
शरारों पर चला बेख़ौफ़, सर तलवार पर रक्खा

 
मौज-मस्ती के पल भी आएंगे | ग़ज़ल  - राजगोपाल सिंह
मौज-मस्ती के पल भी आएंगे
पेड़ होंगे तो फल भी आएंगे

 
घर में ठंडे चूल्हे पर | ग़ज़ल  - अदम गोंडवी
घर में ठंडे चूल्हे पर अगर खाली पतीली है
बताओ कैसे लिख दूँ धूप फाल्गुन की नशीली है

 
जी रहे हैं लोग कैसे | ग़ज़ल  - उदयभानु हंस | Uday Bhanu Hans
जी रहे हैं लोग कैसे आज के वातावरण में,
नींद में दु:स्वप्न आते, भय सताता जागरण में।

बेशरम जब आँख हो तो सिर्फ घूंघट क्या करेगा ?
आदमी नंगा खड़ा है सभ्यता के आवरण में ।

 
पुराने ख़्वाब के फिर से | ग़ज़ल  - कृष्ण सुकुमार | Krishna Sukumar
पुराने ख़्वाब के फिर से नये साँचे बदलती है
सियासत रोज़ अपने खेल में पाले बदलती है

 
जिस्म क्या है | ग़ज़ल  - अदम गोंडवी
जिस्म क्या है रूह तक सब कुछ ख़ुलासा देखिये
आप भी इस भीड़ में घुस कर तमाशा देखिये

 
काग़ज़ी कुछ कश्तियाँ | ग़ज़ल  - राजगोपाल सिंह
काग़ज़ी कुछ कश्तियाँ नदियों में तैराते रहे
जब तलक़ ज़िन्दा रहे बचपन को दुलराते रहे

 
आज सड़कों पर लिखे हैं सैंकड़ों नारे न देख | ग़ज़ल  - दुष्यंत कुमार | Dushyant Kumar
आज सड़कों पर लिखे हैं सैंकड़ों नारे न देख
घर अँधेरा देख तू, आकाश के तारे न देख।

 
जो डलहौज़ी न कर पाया | ग़ज़ल  - अदम गोंडवी
जो डलहौज़ी न कर पाया वो ये हुक़्क़ाम कर देंगे
कमीशन दो तो हिन्दोस्तान को नीलाम कर देंगे

 
बदलीं जो उनकी आँखें  - सूर्यकांत त्रिपाठी 'निराला' | Suryakant Tripathi 'Nirala'
बदलीं जो उनकी आँखें, इरादा बदल गया ।
गुल जैसे चमचमाया कि बुलबुल मसल गया ।

 
जितने पूजाघर हैं | ग़ज़ल  - राजगोपाल सिंह
जितने पूजाघर हैं सबको तोड़िये
आदमी को आदमी से जोड़िये

 
किनारा वह हमसे  - सूर्यकांत त्रिपाठी 'निराला' | Suryakant Tripathi 'Nirala'
किनारा वह हमसे किये जा रहे हैं।
दिखाने को दर्शन दिये जा रहे हैं।

 
लूटकर ले जाएंगे | ग़ज़ल  - राजगोपाल सिंह
लूटकर ले जाएंगे सब देखते रह जाओगे
पत्थरों की वन्दना करने से तुम क्या पाओगे

 
बग़ैर बात कोई | ग़ज़ल  - राजगोपाल सिंह
बग़ैर बात कोई किसका दुख बँटाता है
वो जानता है मुझे इसलिए रुलाता है

 
आजकल हम लोग ... | ग़ज़ल  - राजगोपाल सिंह
आजकल हम लोग बच्चों की तरह लड़ने लगे
चाबियों वाले खिलौनों की तरह लड़ने लगे

ठूँठ की तरह अकारण ज़िंदगी जीते रहे
जब चली आँधी तो पत्तों की तरह लड़ने लगे

 
भारतेन्दु हरिश्चन्द्र की ग़ज़ल  - भारतेन्दु हरिश्चन्द्र | Bharatendu Harishchandra
गले मुझको लगा लो ए दिलदार होली में
बुझे दिल की लगी भी तो ए यार होली में।

 
भारतेन्दु हरिश्चन्द्र की ग़ज़ल  - भारतेन्दु हरिश्चन्द्र | Bharatendu Harishchandra
आ गई सर पर क़ज़ा लो सारा सामाँ रह गया ।
ऐ फ़लक क्या क्या हमारे दिल में अरमाँ रह गया ॥

 
एक ऐसी भी घड़ी आती है / ग़ज़ल  - रोहित कुमार 'हैप्पी'
एक ऐसी भी घड़ी आती है
जिस्म से रूह बिछुड़ जाती है

 
उसे यह फ़िक्र है हरदम  - भगत सिंह

 
कृष्ण सुकुमार की ग़ज़लें  - कृष्ण सुकुमार | Krishna Sukumar
कृष्ण सुकुमार की ग़ज़लें

 
दुष्यंत कुमार की ग़ज़लें  - दुष्यंत कुमार | Dushyant Kumar
दुष्यंत कुमार की ग़ज़लें

 
जिस तरफ़ देखिए अँधेरा है | ग़ज़ल  - डा. राणा प्रताप सिंह गन्नौरी 'राणा'
जिस तरफ़ देखिए अँधेरा है
यह सवेरा भी क्या सवेरा है

 
प्रतिपल घूंट लहू के पीना | ग़ज़ल  - डा. राणा प्रताप सिंह गन्नौरी 'राणा'
प्रतिपल घूँट लहू के पीना,
ऐसा जीवन भी क्या जीना ।

बहुत सरल है घाव लगाना,
बहुत कठिन घावों का सीना ।

छेड़ गया सोई यादों को,
सावन का मदमस्त महीना ।

पीठ न वीर दिखाते रण में,
छलनी भी हो जाये सीना ।

 
बात हम मस्ती में ऐसी कह गए | ग़ज़ल  - डा. राणा प्रताप सिंह गन्नौरी 'राणा'
बात हम मस्ती में ऐसी कह गए,
होश वाले भी ठगे से रह गए।

 
बचकर रहना इस दुनिया के लोगों की परछाई से  - विजय कुमार सिंघल
बचकर रहना इस दुनिया के लोगों की परछाई से
इस दुनिया के लोग बना लेते हैं परबत राई से।

 
जंगल-जंगल ढूँढ रहा है | ग़ज़ल  - विजय कुमार सिंघल
जंगल-जंगल ढूँढ रहा है मृग अपनी कस्तूरी को
कितना मुश्किल है तय करना खुद से खुद की दूरी को

इसको भावशून्यता कहिये चाहे कहिये निर्बलता
नाम कोई भी दे सकते हैं आप मेरी मजदूरी को

सम्बंधों के वो सारे पुल क्या जाने कब टूट गए
जो अकसर कम कर देते थे मन से मन की दूरी को

दोष कोई सिर पर मढ़ देंगे झूठे किस्से गढ़ लेंगे
कब तक लोग पचा पाएँगे मेरी इस मशहूरी को

 
डॉ सुधेश की ग़ज़लें  - डॉ सुधेश
डॉ सुधेश दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय से हिन्दी के प्रोफ़ेसर पद से सेवानिवृत्त हैं। आप हिंदी में विभिन्न विधाओ में सृजन करते हैं। यहाँ आपकी ग़ज़लेंसंकलित की गई हैं।

 
लोग क्या से क्या न जाने हो गए | ग़ज़ल  - डॉ शम्भुनाथ तिवारी
लोग क्या से क्या न जाने हो गए
आजकल अपने बेगाने हो गए

बेसबब ही रहगुज़र में छोड़ना
दोस्ती के आज माने हो गए

आदमी टुकडों में इतने बँट चुका
सोचिए कितने घराने हो गए

वक्त ने की किसकदर तब्दीलियाँ
जो हकीकत थे फसाने हो गए

 
बिला वजह आँखों के कोर भिगोना क्या | ग़ज़ल  - डॉ शम्भुनाथ तिवारी
बिला वजह आँखों के कोर भिगोना क्या
अपनी नाकामी का रोना रोना क्या

बेहतर है कि समझें नब्ज़ ज़माने की
वक़्त गया फिर पछताने से होना क्या

भाईचारा -प्यार मुहब्बत नहीं अगर
तब रिश्ते नातों को लेकर ढोना क्या

जिसने जान लिया की दुनिया फ़ानी है
उसे फूल या काटों भरा बिछौना क्या

क़ातिल को भी क़ातिल लोग नहीं कहते
ऐसे लोगों का भी होना होना क्या

मज़हब ही जिसकी दरवेश- फक़ीरी है
उसकी नज़रों में क्या मिट्टी सोना क्या

जहाँ न कोई भी अपना हमदर्द मिले
उस नगरी में रोकर आँखें खोना क्या

मुफ़लिस जिसे बनाकर छोड़ा गर्दिश ने
उस बेचारे का जगना भी सोना क्या

फिक्र जिसे लग जाती उसकी मत पूछो
उसको जंतर-मंतर जादू- टोना क्या

 
नहीं कुछ भी बताना चाहता है | ग़ज़ल  - डॉ शम्भुनाथ तिवारी
नहीं कुछ भी बताना चाहता है
भला वह क्या छुपाना चाहता है

तिज़ारत की है जिसने आँसुओं की
वही ख़ुद मुस्कुराना चाहता है

 
हौसले मिटते नहीं  - डॉ शम्भुनाथ तिवारी
हौसले मिटते नहीं अरमाँ बिखर जाने के बाद
मंजिलें मिलती है कब तूफां से डर जाने के बाद

 
कौन यहाँ खुशहाल बिरादर  - डॉ शम्भुनाथ तिवारी
कौन यहाँ खुशहाल बिरादर
बद-से-बदतर हाल बिरादर

 
उलझे धागों को सुलझाना  - डॉ शम्भुनाथ तिवारी
उलझे धागों को सुलझाना मुश्किल है
नफरतवाली आग बुझाना मुश्किल है

 
ज्ञानप्रकाश विवेक की ग़ज़लें  - ज्ञानप्रकाश विवेक | Gyanprakash Vivek
प्रस्तुत हैं ज्ञानप्रकाश विवेक की ग़ज़लें !

 

 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश
Hindi Story | Hindi Kahani