भारतीय साहित्य और संस्कृति को हिंदी की देन बड़ी महत्त्वपूर्ण है। - सम्पूर्णानन्द।

Find Us On:

English Hindi
1 / 2
2 / 2
Loading

मई-जून 2019 - Hindi Story, Poems

मई-जून 2019 - Hindi Story, Poems

भारत-दर्शन से जुड़ें : फेसबुक  - ट्विटर

सदैव की भांति इस अंक में भी  'कथा-कहानी' के अंतर्गत  कहानियाँलघु-कथाएं व बाल कथाएं। इस अंक के काव्य  में सम्मिलित है - कविताएंदोहेभजनबाल-कविताएंहास्य कविताएं व गज़ल

भारत-दर्शन का सम्पूर्ण अंक पढ़ें।  

बाल साहित्य में बाल-कविताएँ, पंचतंत्र की कहानी प्रकाशित की गई है। 

इधर हम कुछ समय से देख रहे हैं कि हिन्दी के अनेक प्रकाशन व टीवी चैनल 'भारत-दर्शन' की सामग्री का उपयोग कर रहे हैं। हमें प्रसन्नता है कि हम आपके काम आ रहे हैं। हमारी बहुत-सी सामग्री हमारे अथक-परिश्रम और शोध का परिणाम है यथा आपसे विनम्र विनती है कि सहर्ष सामग्री का उपयोग करें किन्तु सामग्री के साथ 'भारत-दर्शन' का उल्लेख अवश्य करें। इससे हमें बल मिलेगा और प्रोत्साहन भी। 

इस अंक की कहानियों में पढ़िए - इस्मत चुग़ताई की 'लिहाफ़', विनोदशांकर व्यास की कहानी 'विधाता', प्रेमचंद की कहानी 'ठाकुर का कुआँ', रबीन्द्रनाथ टैगोर की कहानी, 'गूंगी', आनन्द विश्वास की कहानी, 'एक आने के दो समोसे' और सुशांत सुप्रिय की अद्भुत कहानी, 'कुतिया के अंडे'। इनके अतिरिक्त दस छोटी कहानियाँ भी प्रकाशित की गई हैं।

लघुकथाओं में मंटो की उलाहना', बलराम अग्रवाल की 'ज़हर की जड़ें', डॉ. चंद्रेश कुमार छतलानी की 'पत्ता परिवर्तन', डॉ. पूरन सिंह की दो लघु-कथाएँ व रोहित कुमार हैप्पी की 'त्रासदी' प्रकाशित की गईं हैं।

बाल साहित्य में अकबर-बीरबल, पंचतंत्र, शेखचिल्ली की कहानियों के अतिरिक्त मोहन राकेश की बाल-कहानी, ''गिरगिट का सपना' व बाल कवितायें पठनीय हैं।

गूगल + अब अलविदा चुका है

2 अप्रैल 2019 से गूगल + की सेवाएँ बंद हो गईं हैं। भारत-दर्शन अपने 1,39,131 अनुसरणकर्ताओं को उनके असीम स्नेह के लिए अपना आभार व्यक्त करता है। कई चीजों पर आपका नियंत्रण नहीं होता - हमें खेद है कि इतनी उत्तम सेवा अब विराम ले रही है।

हमारा अपने गूगल + अनुसरणकर्ताओं से अनुरोध है कि कृपया twitter या facebook के माध्यम से संपर्क बनाए रखें:

https://twitter.com/rohit_k_happy

https://www.facebook.com/bharatdarshanhindi/

आप हमारी साइट के माध्यम से भी हमसे संपर्क कर सकते हैं:

https://www.bharatdarshan.co.nz

एक बार फिर, आप सभी का आभार।

Our News

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश