जब हम अपना जीवन, जननी हिंदी, मातृभाषा हिंदी के लिये समर्पण कर दे तब हम किसी के प्रेमी कहे जा सकते हैं। - सेठ गोविंददास।

Find Us On:

Hindi English
Loading

आलेख

प्रतिनिधि निबंधों व समालोचनाओं का संकलन आलेख, लेख और निबंध.

Article Under This Catagory

स्वामी दयानन्द सरस्वती का जीवन परिचय - भारत-दर्शन संकलन

स्वामी दयानन्द सरस्वती
...

 
आपसी प्रेम एवं एकता का प्रतीक है होली - डा. जगदीश गांधी



...

 
गिर जाये मतभेद की हर दीवार ‘होली’ में! - डा. जगदीश गांधी

 
...

 
स्वामी दयानंद की हिंदी हस्तलिपि - रोहित कुमार 'हैप्पी'

स्वामी दयानन्द की हस्तलिपि में ४ मार्च १८७९ को पंडित श्यामजीकृष्ण वर्म्मा को लिखा हुआ पत्र
...

 
होली से मिलते जुलते त्योहार - रोहित कुमार 'हैप्पी'

Holi Indian Festival
...

 
सुनो बात ॠषि की  - भारतेन्द्र नाथ

दयानन्द आनन्द दाता, ॠषि था,
सुधा-सार सबको पिलाता ॠषि था ।
महत् था, मधुरतम, महा क्रातिकारी,
दयामय दया का था अनुपम पुजारी ।
...

 
लोकगीतों में झलकती संस्कृति का प्रतीक : होली - आत्माराम यादव 'पीव'

होली  की एक अलग ही उमंग और मस्ती होती है जो अनायास ही लोगों के दिलों में गुदगुदी व रोमांच से भर देती है। खेतों में गेहूं चने की फसल पकने लगती है। जंगलों में महुए की गंध मादकता भर देती है। कहीं आम की मंजरियों की महक वातावरण को बासन्ती हवा के साथ उल्लास भरती है तो कहीं पलाश दिल को हर लेता है। ऐसे में फागुन मास की निराली हवा में लोक संस्कृति परम्परागत परिधानों में आन्तरिक प्रेमानुभूति के सुसज्जित होकर चारों और मस्ती भंग आलम बिखेरती है जिससे लोग जिन्दगी के दुख-दर्द भूलकर रंगों में डूब जाते है। शीत ऋतु की विदाई एवं ग्रीष्म ऋतु के आगमन की संधि बेला में युग मन प्रणय के मधुर सपने सजोये मौसम के साथ अजीव हिलौरे महसूस करता है जब सभी के साथ ऐसा हो रहा हो तो यह कैसे हो सकता है कि ब्रज की होली को बिसराया जा सके। हमारे देश के गॉव-गॉव में ढ़ोलक पर थाप पड़ने लगती है,झांझतों की झंकार खनखता उठती है और लोक गीतों के स्वर समूचे वातावरण को मादक बना देते है। आज भी ब्रज की तरह गांवों व शहरों के नरनारी बालक-वृद्घ सभी एकत्रित होकर खाते है पीते -गाते है और मस्ती में नाचते है।
...

 
होली के विविध रंग : जीवन के संग - ललित गर्ग

भारतवर्ष की ख्याति पर्व-त्यौहारों के देश के रूप में है। प्रत्येक पर्व-त्यौहार के पीछे परंपरागत लोकमान्यताएं एवं कल्याणकारी संदेश निहित है। इन पर्व-त्यौहारों की श्रृंखला में होली का विशेष महत्व है। इस्लाम के अनुयायियों में जो स्थान ‘ईद' का है, ईसाइयों में ‘क्रिसमस' का है, वही स्थान हिंदुओं में होली का है। होली का आगमन इस बात का सूचक है कि अब चारों तरफ वसंत ऋतु का सुवास फैलनेवाला है। यह पर्व शिशिर ऋतु की समाप्ति और ग्रीष्म ऋतु के आगमन का प्रतीक है। वसंत के आगमन के साथ ही फसल पक जाती है और किसान फसल काटने की तैयारी में जुट जाते हैं। वसंत की आगमन तिथि फाल्गुनी पूर्णिमा पर होली का आगमन होता है, जो मनुष्य के जीवन को आनंद और उल्लास से प्लावित कर देता है।

होली का पर्व मनाने की पृष्ठभूमि में अनेक पौराणिक कथाएं एवं सांस्कृतिक घटनाएं जुड़ी हुई हैं। पौराणिक कथा की दृष्टि से इस पर्व का संबंध प्रह्लाद और होलिका की कथा से जोड़ा जाता है। प्रह्लाद के पिता हिरण्यकश्यप नास्तिक थे तथा वे नहीं चाहते थे कि उनके घर या पूरे राज्य में उन्हें छोड़कर किसी और की पूजा की जाए। जो भी ऐसा करता था, उसे जान से मार दिया जाता था। प्रह्लाद को उन्होंने कई बार मना किया कि वे भगवान विष्णु की पूजा छोड़ दे, परंतु वह नहीं माना। अंततः उसे मारने के लिए उन्होंने अनेक उपाय किए, परंतु सपफल नहीं हुए। हिरण्यकश्यप की बहन का नाम होलिका था, जिसे यह वरदान प्राप्त था कि वह अग्नि मंे नहीं जलेगी। हिरण्यकश्यप ने अपनी बहन को आदेश दिया कि वह प्रह्लाद को लेकर आग में बैठ जाए ताकि प्रह्लाद जलकर राख हो जाए। होलिका प्रह्लाद को लेकर जैसे ही आग के ढेर पर बैठी, वह स्वयं जलकर राख हो गई, भक्त प्रह्लाद को कुछ नहीं हुआ। बाद में भगवान विष्णु ने नृसिंह अवतार लेकर हिरण्यकश्यप का वध किया। उसी समय से होलिका दहन और होलिकोत्सव इस रूप में मनाया जाने लगा कि वह अधर्म के ऊपर धर्म, बुराई के ऊपर भलाई और पशुत्व के ऊपर देवत्व की विजय का पर्व है। एक कथा यह भी प्रचलित है कि जब भगवान श्रीकृष्ण ने दुष्टों का दमन कर गोपबालाओं के साथ रास रचाया, तब से होली का प्रचलन शुरू हुआ। श्रीकृष्ण के संबंध में एक कथा यह भी प्रचलित है कि जिस दिन उन्होंने पूतना राक्षसी का वध किया, उसी हर्ष में गोकुलवासियों ने रंग का उत्सव मनाया था। लोकमानस में रचा-बसा होली का पर्व भारत में हिन्दुमतावलंबी जिस उत्साह के साथ मनाते हैं, उनके साथ अन्य समुदाय के लोग भी घुल-मिल जाते हैं। उसे देखकर यही लगता है कि यह पर्व विभिन्न संस्कृतियों को एकीकृत कर आपसी एकता, सद्भाव तथा भाईचारे का परिचय देता है। फाल्गुन की पूर्णिमा के दिन लोग घरों से लकड़ियां इकट्ठी करते हैं तथा समूहों में खड़े होकर होलिका दहन करते हैं। होलिका दहन के अगले दिन प्रातःकाल से दोपहर तक फाग खेलने की परंपरा है। प्रत्येक आयुवर्ग के लोग रंगों के इस त्यौहार में भागीदारी करते हैं। इस पर्व में लोग भेदभाव को भुलाकर एक दूसरे के मुंह पर अबीर-गुलाल मल देते हैं। पारिवारिक सदस्यों के बीच भी उत्साह के साथ रंगों का यह पर्व मनाया जाता है।

जिंदगी जब सारी खुशियों को स्वयं में समेटकर प्रस्तुति का बहाना माँगती है तब प्रकृति मनुष्य को होली जैसा त्योहार देती है। होली हमारे देश का एक विशिष्ट सांस्कृतिक एवं आध्यात्मिक त्यौहार है। अध्यात्म का अर्थ है मनुष्य का ईश्वर से संबंधित होना है या स्वयं का स्वयं के साथ संबंधित होना। इसलिए होली मानव का परमात्मा से एवं स्वयं से स्वयं के साक्षात्कार का पर्व है। असल में होली बुराइयों के विरुद्ध उठा एक प्रयत्न है, इसी से जिंदगी जीने का नया अंदाज मिलता है, औरों के दुख-दर्द को बाँटा जाता है, बिखरती मानवीय संवेदनाओं को जोड़ा जाता है। आनंद और उल्लास के इस सबसे मुखर त्योहार को हमने कहाँ-से-कहाँ लाकर खड़ा कर दिया है। कभी होली के चंग की हुंकार से जहाँ मन के रंजिश की गाँठें खुलती थीं, दूरियाँ सिमटती थीं वहाँ आज होली के हुड़दंग, अश्लील हरकतों और गंदे तथा हानिकारक पदार्थों के प्रयोग से भयाक्रांत डरे सहमे लोगों के मनों में होली का वास्तविक अर्थ गुम हो रहा है। होली के मोहक रंगों की फुहार से जहाँ प्यार, स्नेह और अपनत्व बिखरता था आज वहीं खतरनाक केमिकल, गुलाल और नकली रंगों से अनेक बीमारियाँ बढ़ रही हैं और मनों की दूरियाँ भी। हम होली कैसे खेलें? किसके साथ खेलें? और होली को कैसे अध्यात्म-संस्कृतिपरक बनाएँ। होली को आध्यात्मिक रंगों से खेलने की एक पूरी प्रक्रिया आचार्य महाप्रज्ञ द्वारा प्रणित प्रेक्षाध्यान पद्धति में उपलब्ध है। इसी प्रेक्षाध्यान के अंतर्गत लेश्या ध्यान कराया जाता है, जो रंगों का ध्यान है। होली पर प्रेक्षाध्यान के ऐसे विशेष ध्यान आयोजित होते हैं, जिनमें ध्यान के माध्यम से विभिन्न रंगों की होली खेली जाती है।

यह तो स्पष्ट है कि रंगों से हमारे शरीर, मन, आवेगों, कषायों आदि का बहुत बड़ा संबंध है। शारीरिक स्वास्थ्य और बीमारी, मन का संतुलन और असंतुलन, आवेगों में कमी और वृद्धि-ये सब इन प्रयत्नों पर निर्भर है कि हम किस प्रकार के रंगों का समायोजन करते हैं और किस प्रकार हम रंगों से अलगाव या संश्लेषण करते हैं। उदाहरणतः नीला रंग शरीर में कम होता है, तो क्रोध अधिक आता है, नीले रंग के ध्यान से इसकी पूर्ति हो जाने पर गुस्सा कम हो जाता है। श्वेत रंग की कमी होती है, तो अशांति बढ़ती है, लाल रंग की कमी होने पर आलस्य और जड़ता पनपती है। पीले रंग की कमी होने पर ज्ञानतंतु निष्क्रिय बन जाते हैं। ज्योतिकेंद्र पर श्वेत रंग, दर्शन-केंद्र पर लाल रंग और ज्ञान-केंद्र पर पीले रंग का ध्यान करने से क्रमशः शांति, सक्रियता और ज्ञानतंतु की सक्रियता उपलब्ध होती है। प्रेक्षाध्यान पद्धति के अन्तर्गत ‘होली के ध्यान' में शरीर के विभिन्न अंगों पर विभिन्न रंगों का ध्यान कराया जाता है और इस तरह रंगों के ध्यान में गहराई से उतरकर हम विभिन्न रंगों से रंगे हुए लगने लगा।

यद्यपि आज के समय की तथाकथित भौतिकवादी सोच एवं पाश्चात्य संस्कृति के प्रभाव, स्वार्थ एवं संकीर्णताभरे वातावरण से होली की परम्परा में बदलाव आया है । परिस्थितियों के थपेड़ों ने होली की खुशी और मस्ती को प्रभावित भी किया है, लेकिन आज भी बृजभूमि ने होली की प्राचीन परम्पराओं को संजोये रखा है । यह परम्परा इतनी जीवन्त है कि इसके आकर्षण में देश-विदेश के लाखों पर्यटक ब्रज वृन्दावन की दिव्य होली के दर्शन करने और उसके रंगों में भीगने का आनन्द लेने प्रतिवर्ष यहाँ आते हैं ।

बसन्तोत्सव के आगमन के साथ ही वृन्दावन के वातावरण में एक अद्भुत मस्ती का समावेश होने लगता है, बसन्त का भी उत्सव यहाँ बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है । इस उत्सव की आनन्द लहरी धीमी भी नहीं हो पाती कि प्रारम्भ हो जाता है, फाल्गुन का मस्त महीना । फाल्गुन मास और होली की परम्पराएँ श्रीकृष्ण की लीलाओं से सम्बद्ध हैं और भक्त हृदय में विशेष महत्व रखती हैं। श्रीकृष्ण की भक्ति में सराबोर होकर होली का रंगभरा और रंगीनीभरा त्यौहार मनाना एक विलक्षण अनुभव है। मंदिरों की नगरी वृन्दावन में फाल्गुन शुक्ल एकादशी का विशेष महत्व है । इस दिन यहाँ होली के रंग खेलना परम्परागत रूप में प्रारम्भ हो जाता है । मंदिरों में होली की मस्ती और भक्ति दोनों ही अपनी अनुपम छटा बिखेरती है।

इस दिव्य मास और होली के रंग में अपने आपको रंगने के लिये भक्तगण होली पर सुदूर प्रान्तों एवं स्थानों से वृन्दावन आकर आनन्दित होते हैं। उनकी वृन्दावन तक की यात्रा कृष्णमय बनकर चलती हैं और उसमें भी होली की मस्ती छायी रहती है। रास्ते भर बसों में गाना-बजाना, होली के रसिया और गीत, भक्ति प्रधान नृत्य, कभी-कभी तो विचित्र रोमांच होने लगता है । वृन्दावन की पावन भूमि में पदार्पण होते ही भक्तों की टोलियों का विशेष हृदयग्राही नृत्य बड़ा आकर्षक होता है । लगता है, बिहारीजी के दर्शनों की लालसा में ये इतने भाव-विह्वल हैं कि जमीन पर पैर ही नहीं रखना चाहते । कोई किसी तरह की चिन्ता नहीं, कोई द्वेष और मनोमालिन्य नहीं, केवल सुखद वातावरण का ही बोलबाला होता है। होली को सम्पूर्णता से आयोजित करने के लिये मन ही नहीं, माहौल भी चाहिए और यही वृंदावन आकर देखने को मिलता है।

दरअसल मनुष्य का जीवन अनेक कष्टों और विपदाओं से भरा हुआ है। वह दिन-रात अपने जीवन की पीड़ा का समाधान ढूंढने में जुटा रहता है। इसी आशा और निराशा के क्षणों में उसका मन व्याकुल बना रहता है। ऐसे ही क्षणों में होली जैसे पर्व उसके जीवन में आशा का संचार करते हैं। जर्मनी, रोम आदि देशों में भी इस तरह के मिलते-जुलते पर्व मनाए जाते हैं। गोवा में मनाया जाने वाला ‘कार्निवाल' भी इसी तरह का पर्व है, जो रंगों और जीवन के बहुरूपीयपन के माध्यम से मनुष्य के जीवन के कम से कम एक दिन को आनंद से भर देता है। होली रंग, अबीर और गुलाल का पर्व है। परंतु समय बदलने के साथ ही होली के मूल उद्देश्य और परंपरा को विस्मृत कर शालीनता का उल्लंघन करने की मनोवृत्ति बढ़ती जा रही है। प्रेम और सद्भाव के इस पर्व को कुछ लोग कीचड़, जहरीले रासायनिक रंग आदि के माध्यम से मनाते हुए नहीं हिचकते। यही कारण है कि आज के समाज में कई ऐसे लोग हैं जो होली के दिन स्वयं को एक कमरे में बंद कर लेना उचित समझते हैं।

सही अर्थों में होली का मतलब शालीनता का उल्लंघन करना नहीं है। परंतु पश्चिमी संस्कृति की दासता को आदर्श मानने वाली नई पीढ़ी प्रचलित परंपराओं को विकृत करने में नहीं हिचकती। होली के अवसर पर छेड़खानी, मारपीट, मादक पदार्थों का सेवन, उच्छंृखलता आदि के जरिए शालीनता की हदों को पार कर दिया जाता है। आवश्यकता है कि होली के वास्तविक उद्देश्य को आत्मसात किया जाए और उसी के आधार पर इसे मनाया जाए। होली का पर्व भेदभाव को भूलने का संदेश देता है, साथ ही यह मानवीय संबंधों में समरसता का विकास करता है। होली का पर्व शालीनता के साथ मनाते हुए इसके कल्याणकारी संदेश को व्यक्तिगत जीवन में चरितार्थ किया जाए, तभी पर्व का मनाया जाना सार्थक कहलाएगा।

-ललित गर्ग
ई-253, सरस्वती कुंज अपार्टमेंट
25, आई0पी0 एक्सटेंशन, पटपड़गंज, दिल्ली-92
फोन: 22727486  मो. 9811051133
ई-मेल : [email protected]
...

 
सबकी ‘होली’ एक दिन, अपनी ‘होली’ सब दिन - डॉ. भूपेन्द्र सिंह गर्गवंशी

मुझे बहुत अजीब सा लगता है, जब हास्य-व्यंग्य शैली में लिखने वाले लोग अप्रासंगिक विषय-वस्तु का प्रयोग करते हैं। इन व्यंग्यकारों के गुणावगुण पर ज्यादा कुछ कहना नहीं है। मैंने महसूस किया है कि इनके कुछेक आलेख सर्वथा काल्पनिक ही होते हैं। मसलन होली या अन्य विशेष पर्व-अवसरों के बारे में जब इनकी लेखनी चलती है तो प्रतीत होता है कि ये ‘टू एनफ' ही कर रहे हैं। मैं यह आप पर कत्तई ‘लाद' नहीं रहा। कोई जरूरी तो नहीं कि आप किसी की बात को नसीहत ही मानें या आँख मूँद कर विश्वास ही करें।

खैर होली आ गई है। वैसे बसन्त का मौसम तो एक माह से ही चल रहा है। फागुन में जवानी-दीवानी होती है। हो सकता है, परन्तु मैं इससे सहमत नहीं हूँ। फागुन में बाबा देवर लागैं- इसमें कौन सा नयापन दिखता है? हाँ यह बात दीगर है कि बसन्त, फागुन और होली के नाम पर भड़ासी लेखक अपने अन्दर के गुबार निकालकर स्वयं को हल्का कर लेते हैं-ऐसा करने से मात्र उन्हें ही लाभ मिलता है, या फिर उनके जैसे लोगों को।

सिने तारिकाओं/कलाकारों, राजनेताओं और विशिष्टजनों के प्रति लगाव रखने वाले हास्य-व्यंग्यकार होली का हुल्लास अपने-अपने तरीके से लिखते हैं। मैंने भी लिखा है होली संवाद, होली का हास्यफल और पता नहीं क्या-क्या, जिसे मैं एक औपचारिक पारम्परिक लेख ही मानता हूँ, जिसका विषय-वस्तु वास्तविकता के धरातल पर न होकर कल्पना के वायुमण्डल में उड़ता है।

दशकों पूर्व की बात है जब प्रिण्ट मीडिया के होली विशेषाँकों में विपरीत और अनापेक्षित संवादों का प्रकाशन हुआ करता था, तत्समय पाठकों की संख्या में बढ़ोत्तरी होती थी और न्यूज प्रिण्ट का सरकुलेशन बढ़ता था। सब्सक्राइबर्स द्वारा अपनी प्रतियाँ पहले से ही एडवान्स में बुक कराई जाती थीं। प्रिण्ट मीडिया से जुड़ा हर पत्रकार अपने-अपने तरीके से होली संवाद, आलेख एवं व्यंग्य लिखने की होड़ में रहा करता था। मेरी समझ से तब का जमाना भी कुछ वैसा ही रहा होगा, जैसे कि फागुन में बाबा देवर लागैं या फिर फागुन में जवानी-दीवानी होती है.....आदि।

प्रिण्ट में लोगों को होली उपाधियों से अलंकृत करना एक परम्परा थी, जो अब धीरे-धीरे करके विलुप्त होने लगी है। वर्ना एक दशक पूर्व तक मैं ही प्रिण्ट के अनेकों पृष्ठों का पोषण होली (विशेषाँक) के अवसर पर समस्त सुपाच्य सामग्रियों से किया करता था। अब होली हो या अन्य कोई मौजमस्ती का अवसर इस पर लेखनी चलाने का ‘मूड' ही नहीं होता। शायद इसी को ‘राइटिंग एलर्जी' कहते हैं। किसका गुणगान किया जाए? कौन है जिसकी तारीफ में कसीदे पढ़े जाएँ....? ‘सेलीब्रेटीज कौन है, जिसे देश की डेढ़ अरब जनसंख्या अपना आदर्श मानती है....? या कौन है वह नेता जो वायदे न करके काम पर विश्वास करता हो। आप हमें बताएँ- हम विचार कर उसको अपने लेखन का विषय-वस्तु मानकर अवश्य ही कुछ वैसा ही लिखेंगे जैसा आप चाहते हैं।

मेरी समझ से होली पर व्यंग्यादि लिखना विशुद्ध नवनीत लेपन सा कार्य है और लेखककी हैसियत विदूषकों जैसी होती है। लेखन के माध्यम से चमचागीरी करने से बेहतर है कि राजनीति में उतरकर पार्टियों के प्रमुखों, कद्दावर नेताओं के इर्द-गिर्द एच.एम.वी. के स्वान की तरह ‘फेथफुल' कहलाया जाए। खूब मालपानी काट कर जीवन सफल बनाएँ। बंगला, गाड़ी और ऐशो आराम के संसाधन युक्त जीवन जीएँ।

कहने का यह तात्पर्य नहीं कि हर व्यंग्यकार मेरी तरह कंगाल है। अब तो लेखन और मीडिया से जुड़े लोग मालदार होते हैं, भौतिक सुख-सुविधा सम्पन्न ऐसों की कद्र हर कोई करता है। पाठक बन्धु-बान्धवों जब भी होली का अवसर आता है मुझे अजीब सा महसूस होने लगता है। समझ में नहीं आता कि क्या करूँ? अपनी इस मनःस्थिति का किससे निदान कराऊँ ताकि अच्छे ढंग से उपचार हो सके।
हेमा मालिनी से लेकर माधुरी दीक्षित, विद्या बालन, प्रियंका चोपड़ा, अमिताभ बच्चन, राजेश खन्ना से लेकर आमिर खान तक के बारे में होली संवाद लिख चुका हूँ। सुनील गावस्कर, सचिन तेन्दुलकर, धौनी तक भी अछूते नहीं रहे। मैंने खूब लेखनी चलाई है। केजरीवाल एवं उनके समकालीन नेताओं के पूर्व 70 के दशक से ख्यातिलब्ध हर महत्वपूर्ण हस्तियों पर लिखा है, लेकिन सिवाय वाहवाही के कुछ भी हासिल नहीं हुआ। शायद यही वजह है कि अब बसन्त, फागुन और फिर होली मेरे लिए कोई मायने नहीं रखती और खाली पाकेट, सूनी मुट्ठी, भूखे पेट इक्कसवीं सदी में भी 20वीं जैसे हालात से गुजरने वाला मुझ जैसा कलमकार पौरूषहीन हो चुका है। इसीलिए होली का कोई रंग पसन्द नहीं एक तरह से ‘एलर्जी' हो गई है ‘होली' से। आपकी होली मजे से बीते यही कामना है।

मैं अपनी हालत के लिए किसी को दोषी नहीं मानता। किसी प्रकाशक/सम्पादक अथवा सेलीब्रेटीज या फिर पाठकों को। मेरी अपनी आदत ही ऐसी है कि जो भी किया और करता हूँ उसे अपना क्षत्रिय धर्म समझता हूँ, उसकी एवज में किसी चीज की दरकार नहीं रखता हूँ। इस भौतिकवादी युग में मुझ जैसा व्यक्ति अभी तक जिन्दा है यही क्या किसी उपलब्धि से कम है। जाहिर सी बात है कि मैं अपनी हालत का स्वयं जिम्मेदार हूँ। इन सबके बावजूद मैं जानते हुए भी ठकुर सोहाती अस्त्र का शिकार हुआ वर्ना होली के अवसर पर अपना डिप्रेशन, एलर्जी दुखड़े के रूप में न लिखता।

मैंने यह भी महसूस किया है कि कुछेक लेखकों को होली पर लेखन के लिए सम्बन्धितों द्वारा ऑब्लाइज किया जाता है। कई लेखक जो अपने को नामचीन कहलाने में फख्र महसूस करते हैं वे सभी प्रायोजित लेखन करते हैं। वह बुद्धिजीवी नहीं अपितु मसिजीवी कहे जा सकते हैं। इनको प्रकाशक-मुद्रक, सम्पादक, सेलीब्रेटीज सभी अनुबन्धानुसार ओब्लाइज करते हैं। इन सबकी होली चियरफुल मूड में बीतती है। मैं कामना करता हूँ कि आप भीं होली हर्षोल्लास के साथ मनाएँ। इस अवसर पर बनने वाले पारम्परिक पकवानों का स्वाद ही न लें बल्कि भरपूर उदरस्थ भी करें। मुझे मेरे हाल पर छोड।

मैं अब तक के जीवन में हर दिन पापड़ बेलता ही रहा हूँ। इस बार की होली पर भी पापड़ ही बेल रहा हूँ। होली के अवसर पर बनाए जाने वाले पकवानों में पापड़ का बड़ा महत्व होता है। एक तरह यह माना जा सकता है कि मेरे जीवन का हर दिन ‘होली' ही है क्योंकि जीने के लिए नित्य, हर क्षण मुझे पापड़ बेलने पड़ते हैं। आप सभीं को होली की ढेरों शुभकामनाएँ। रंगोत्सव पर बधाई।
...

 
डा. भीमराव अम्बेड़कर के राज्य समाजवाद का कोई पूछनहार नहीं | जन्म-दिवस पर विशेष - राजीव आनंद


...

 

 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश
Hindi Story | Hindi Kahani