शिक्षा के प्रसार के लिए नागरी लिपि का सर्वत्र प्रचार आवश्यक है। - शिवप्रसाद सितारेहिंद।

Find Us On:

English Hindi

मैं जग को पहचान न पाया (काव्य)

Author: भगवद्दत्त 'शिशु'

मैं जग को पहचान न पाया।

जो मैंने समझा था अपना,
था क्या वह ममता का सपना ?
उन अपनों ने ही अपने को, होते देखा आज पराया !
मैं जग को पहचान न पाया।

सपनों की कुटिया छाई थी,
मेरी ममता को भाई थी;
उसने भी आँखों से देखा, मुझको होते आज पराया ।
मैं जग को पहचान न पाया ।

झिलमिल का यह निरा झमेला,
मैं हूँ इसमें आज अकेला ।
मेरी छाया ही तो मुझको छलती है, कैसी यह माया !
मैं जग को पहचान न पाया।

-भगवद्दत्त 'शिशु'
[1946]

 

Back

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश