अपनी सरलता के कारण हिंदी प्रवासी भाइयों की स्वत: राष्ट्रभाषा हो गई। - भवानीदयाल संन्यासी।

Find Us On:

English Hindi
Loading

साक्षात्कार

साक्षात्कार के अंतर्गत हम विभिन्न लोगों से बातचीत करेंगे और उन्हें आप तक पहुँचाएंगे।

Article Under This Catagory

पूर्णिमा वर्मन से बातचीत  - रोहित कुमार 'हैप्पी'

इन्टरनेट पर हिंदी की वैब दुनिया की बात करें तो पूर्णिमा वर्मन एक सुपरिचित नाम  हैं और सर्वाधिक लोकप्रिय व्यक्तियों में से एक हैं। वैब के आरंभिक दौर में हिंदी को प्रचारित-प्रसारित करने में आपकी अहम् भूमिका रही है। आप दशकों तक शारजहा में रही हैं और वहीं आपने अपनी वैब यात्रा आरम्भ की थी।  वर्तमान में आप लखनऊ (भारत) में हैं।  

 
उच्चायुक्त मुक्तेश परदेशी से साक्षात्कार - रोहित कुमार 'हैप्पी'

उच्चायुक्त मुक्तेश परदेशी

 

 

सब्स्क्रिप्शन

Captcha Code

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश