साहित्य की उन्नति के लिए सभाओं और पुस्तकालयों की अत्यंत आवश्यकता है। - महामहो. पं. सकलनारायण शर्मा।

Find Us On:

English Hindi
Loading

गीत

गीतों में प्राय: श्रृंगार-रस, वीर-रस व करुण-रस की प्रधानता देखने को मिलती है। इन्हीं रसों को आधारमूल रखते हुए अधिकतर गीतों ने अपनी भाव-भूमि का चयन किया है। गीत अभिव्यक्ति के लिए विशेष मायने रखते हैं जिसे समझने के लिए स्वर्गीय पं नरेन्द्र शर्मा के शब्द उचित होंगे, "गद्य जब असमर्थ हो जाता है तो कविता जन्म लेती है। कविता जब असमर्थ हो जाती है तो गीत जन्म लेता है।" आइए, विभिन्न रसों में पिरोए हुए गीतों का मिलके आनंद लें।

Article Under This Catagory

दिन अच्छे आने वाले हैं - गयाप्रसाद शुक्ल सनेही

जब दुख पर दुख हों झेल रहे, बैरी हों पापड़ बेल रहे,
हों दिन ज्यों-त्यों कर ढेल रहे, बाकी न किसी से मेल रहे,
तो अपने जी में यह समझो,
दिन अच्छे आने वाले हैं ।

 
तुमने मुझको देखा... - श्री गिरिधर गोपाल

तुमने मुझको देखा मेरा भाग खिल गया ।
मेघ छ्टे सूरज निकला हिल उठीं दिशाएं,
दूर हुईं पथ से बाधा मनसे चिंताएं,
तुमने अंक लगाया मेरा शाप धुल गया ।

 
मैं तुम्हारी बांसुरी में.... - नर्मदा प्रसाद खरे

मैं तुम्हारी बांसुरी में स्वर भरूँगा । 
एक स्वर ऐसा भरूँ कि  तुम जगत को भूल जाओ;
एक स्वर ऐसा भरूँ कि चंद्रको तुम  चूम आओ,
स्वर -सुधा तुममें बहाकर,  ताप सब पल में हरूँगा ।
स्वर भरूँगा।। 

 
जब अन्तस में.... - विनय शुक्ल 'अक्षत'

जब अन्तस में पीड़ा हो, सन्नाटे हों
जब कहने को खुद से ही न बातें हों
जब पलकें बोझिल सी होने लगती हों
जब नदियाँ लहरों को खोने लगती हों
जब काँटें बन चुभते नर्म बिछौने हों
जब भविष्य के सारे सपने बौने हों।

 

 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश