भाषा का निर्माण सेक्रेटरियट में नहीं होता, भाषा गढ़ी जाती है जनता की जिह्वा पर। - रामवृक्ष बेनीपुरी।
 
सामने आईने के जाओगे (काव्य)       
Author:डा. राणा प्रताप सिंह गन्नौरी 'राणा'

सामने आईने के जाओगे?
इतनी हिम्मत कहां से लाओगे?

सख्त मुश्किल है सामना अपना
किस तरह खुद को मुंह दिखाओगे

है बहुत बेनियाज़ यह दुनिया
नाज़ किस-किस के तुम उठाओगे

ख़ार बोकर गुलों की ख्वाहिश क्यों
रंज देकर खुशी न पाओगे

ये बड़े लोग हैं बहुत छोटे
देख लोगे जब आज़माओगे

दूर भागोगे उतने ही इनसे
जितने इन के करीब जाओगे

उतना बेचैन तुमको कर देगा
दर्द को जिस क़दर दबाओगे

भूलना चाहते तो हो उनको
‘राणा' साहब न भूल पाओगे

- डॉ राणा प्रतापसिंह ‘राणा' गन्नौरी


ख़ार = कांटा

Back
 
 
Post Comment
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश