यदि स्वदेशाभिमान सीखना है तो मछली से जो स्वदेश (पानी) के लिये तड़प तड़प कर जान दे देती है। - सुभाषचंद्र बसु।
 
जंगल-जंगल ढूँढ रहा है | ग़ज़ल (काव्य)       
Author:विजय कुमार सिंघल

जंगल-जंगल ढूँढ रहा है मृग अपनी कस्तूरी को
कितना मुश्किल है तय करना खुद से खुद की दूरी को

इसको भावशून्यता कहिये चाहे कहिये निर्बलता
नाम कोई भी दे सकते हैं आप मेरी मजदूरी को

सम्बंधों के वो सारे पुल क्या जाने कब टूट गए
जो अकसर कम कर देते थे मन से मन की दूरी को

दोष कोई सिर पर मढ़ देंगे झूठे किस्से गढ़ लेंगे
कब तक लोग पचा पाएँगे मेरी इस मशहूरी को

हम बंधुआ मजदूर समय के हाल हमारा मत पूछो
जनम-जनम से तरस रहे हैं हम' अपनी मजदूरी को

हमने भी बाजार में अपना खून-पसीना एक किया
रिश्वत क्यों कहते हो यारो थोड़ी-सी दस्तूरी को

-विजय कुमार सिंघल

#

हिंदी ग़ज़लकार विजय कुमार सिंघल की ग़ज़ल
[Ghazal by Vijay Kumar Singhal]

 

Back
 
 
Post Comment
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश