मैं दुनिया की सब भाषाओं की इज्जत करता हूँ, परन्तु मेरे देश में हिंदी की इज्जत न हो, यह मैं नहीं सह सकता। - विनोबा भावे।

Find Us On:

English Hindi
डॉ रामनिवास मानव की क्षणिकाएँ  (काव्य)     
Author:डा रामनिवास मानव | Dr Ramniwas Manav

सीमा पार से निरन्तर
घुसपैठ जारी है।
'वसुधैव कुटुम्बकम'
नीति यही तो हमारी है।

2)
दलदल में धंसा है।
आरक्षण और तुष्टिकरण के,
दो पाटों के बीच में
भारत अब फंसा है।

3)
लूट-खसोट प्रतियोगिता
कब से यहां जारी है।
कल तक उन्होंने लूटा था,
अब इनकी बारी है।

4)
देश के संसाधनों को
राजनीति के सांड चर रहे हैं,
और उसका खामियाजा
आमजन भर रहे हैं।

5)
मेरा भारत देश
सचमुच महान है।
यहाँ अष्टाचारियों के हाथ में
सत्ता की कमान है।

6)
जो नेता बाहर से
लगते अनाड़ी हैं,
लूट-खसोट के वे
माहिर खिलाड़ी हैं।

7)
वे कमीशन का कत्था,
चूना रिश्वत का लगाते हैं।
इस प्रकार देश को ही
पान समझकर खाते हैं।

8)
देश को, जनता को,
सबको छल रहे हैं।
नेता नहीं, वे सांप हैं,
आस्तीनों में पल रहे हैं।

9)
नेताजी झूठ में
ऐसे रच गये,
सच को भी झूठ कहकर
साफ बच गये।

10)
नेता बाहर रहे
या रहे जेल में,
वह पारंगत है
सत्ता के हर खेल में।

11)
उन्होंने गांधी टोपी पहन
अनागिरी क्या दिखाई
कल तक 'दादा' थे,
आज बने हैं 'भाई'।

12)
जो कई दिनों से था
अस्पताल में पड़ा हुआ,
खर्च का बिल देखते ही
भाग खड़ा हुआ।

13)
क्या छोटे हैं
और क्या बड़े हैं,
सभी यहां बिकने को
तैयार खड़े हैं।

14)
झूठ जाने क्या-क्या
सरेआम कहता रहा
और सिर झुकाकर सच
चुपचाप सहता रहा।

-डॉ रामनिवास मानव, भारत

Back

Comment using facebook

 
 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 

 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश