मैं महाराष्ट्री हूँ, परंतु हिंदी के विषय में मुझे उतना ही अभिमान है जितना किसी हिंदी भाषी को हो सकता है। - माधवराव सप्रे।
 
ज्ञानप्रकाश विवेक की ग़ज़लें (काव्य)       
Author:ज्ञानप्रकाश विवेक | Gyanprakash Vivek

प्रस्तुत हैं ज्ञानप्रकाश विवेक की ग़ज़लें !

Back
More To Read Under This

 

तमाम घर को .... | ग़ज़ल
किसी के दुख में .... | ग़ज़ल
तुम मेरी बेघरी पे...
वो कभी दर्द का...
 
 
Post Comment
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश