भाषा ही राष्ट्र का जीवन है। - पुरुषोत्तमदास टंडन।

Find Us On:

English Hindi
Loading

हाइकु

हाइकु

Article Under This Catagory

नीरज के हाइकु - गोपालदास ‘नीरज’

जन्म मरण
समय की गति के
हैं दो चरण