राष्ट्रभाषा के बिना राष्ट्र गूँगा है। - महात्मा गाँधी।

Find Us On:

English Hindi
  • Hindi Diwas
  • Diwali
  • Kudiram Bose
1 2 3
Loading

हिंदी : सितंबर-अक्टूबर 2017

हिंदी : सितंबर-अक्टूबर 2017

हिंदी-दिवस पर आप सभी पाठकों को शुभ-कामनाएं ।  सम्पूर्ण अँक यहाँ पढ़ें ।  

1975 से विश्व हिंदी सम्मेलन संसार के विभिन्न देशों में आयोजित किए जाते रहे हैं। 2015 में दसवें विश्व हिंदी सम्मेलन का आयोजन 10 से 12 सितंबर तक भारत में मध्य प्रदेश राज्य के भोपाल नगर में किया गया था। 

प्रथम विश्व हिंदी सम्मेलन 10-12 जनवरी 1975 को नागपुर, भारत में आयोजित किया गया था।

विश्व हिंदी सम्मेलनों के प्रमुख लक्ष्य हिंदी भाषा का प्रचार एवं प्रसार करना व इसे विश्व भाषा के रूप में स्थापित करना है। 

2015 में 10वें विश्व हिंदी सम्मेलन के अवसर पर भोपाल पूर्णतया हिंदीमय दिखाई पड़ता था। भोपाल की सड़के, चौराहे व भवन सब हिंदीमय थे। आइए, विश्व-हिंदी सम्मेलन की चित्र-दीर्घा देखें।

इस अँक में  हिंदी दिवस पर विशेष सामग्री, न्यूज़ीलैंड की हिंदी पत्रकारिता, सुभाषचंद्र बोस के विचार में, 'हिंदी और राष्ट्रीय एकता'।  

इस अंक में पढ़िए - शरतचंद्र की कहानी, 'विलासी',  सुशांत सुप्रिय की कहानी, 'बदबू'।

गाँधी जयंती लालबहादुर शास्त्री जयंती पर विशेष सामग्री ।

गांधी जयंती पर गांधीजी पर विशेष सामग्री।  2 अक्टूबर को शास्त्री जी की भी जयंती होती है - शास्त्री जी पर विशेष सामग्री।

विश्व हिन्दी सम्मेलन के दौरान प्रचारित 'हिंदी भाषा गान' का वीडियो देखिए।

हिंदी के विकास की संगीतमय कथा नाटिका - 'अथ हिंदी कथा' का वीडियो देखिए।

मैथिलीशरण गुप्त की 'भारत-भारती' व 'रामावतार त्यागी की, 'मैं दिल्ली हूँ' भी पढ़ें। इसके अतिरिक्त डॉ ओम विकास का आलेख, 'समग्र विकास के लिए हिन्दी : देवनागरी में या रोमन में ? 'विश्‍व हिन्‍दी सम्‍मेलन प्रेस वार्ता', राजेश्वर वशिष्ठ की कविता, 'कुंती की याचना',  आनन्द विश्वास की बाल कविता, 'बच्चो, चलो चलाएं चरखा' सम्मिलित की गई हैं। व्यंग्य, कथा-कहानी, लघु-कथाएं, ग़ज़लें, कविताएं, गीत, दोहे व बाल-साहित्य सामग्री तो यथावत पठनीय है ही। 

आशा है पाठकों का स्नेह मिलता रहेगा। आप भी भारत-दर्शन में प्रकाशनार्थ अपनी रचनाएं भेजें। हिंदी लेखकों व कवियों के चित्रों की श्रृँखला भी देखें। यदि आप के पास दुर्लभ चित्र उपलब्ध हों तो अवश्य प्रकाशनार्थ भेजें। इस अनूठे प्रयास में अपना सहयोग दें।

Our News

नीव का पत्थर
यह निर्णय तुम्हीं को करना है कि तुम नीव का पत्थर बनना चाहते हो या ध्वज? जबकि -- नीव का पत्थर आधार होता है, ध्वज प्रतीक।नीव....
प्रकृति के अंचल में
"कर्म में तेरा अधिकार है, फल में नहीं" --इसे मनुष्य गाता रहा किंतु तरु निभाता रहा।   * झुके हुए आम्र ने कहा -- फल देने के....

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश