हिंदी और नागरी का प्रचार तथा विकास कोई भी रोक नहीं सकता'। - गोविन्दवल्लभ पंत।

Find Us On:

English Hindi
Loading
हिंदी भजन 
 
हिंदी भजन-Hindi Bhajan
 
Literature Under This Category
 
पथ से भटक गया था राम | भजन  - रोहित कुमार 'हैप्पी'

पथ से भटक गया था राम
नादानी में हुआ ये काम
 
छोड़ गए सब संगी साथी
संकट में प्रभु तुम लो थाम
 
तू सबके दुःख हरने वाला
बिगड़े संवारे सबके काम
 
तेरा हर पल ध्यान धरुं मैं
ऐसा पिला दे प्रेम का जाम

 
कबीर भजन  - कबीरदास | Kabirdas

उमरिया धोखे में खोये दियो रे।
धोखे में खोये दियो रे।
पांच बरस का भोला-भाला
बीस में जवान भयो।
तीस बरस में माया के कारण,
देश विदेश गयो। उमर सब ....
चालिस बरस अन्त अब लागे, बाढ़ै मोह गयो।
धन धाम पुत्र के कारण, निस दिन सोच भयो।।
बरस पचास कमर भई टेढ़ी, सोचत खाट परयो।
लड़का बहुरी बोलन लागे, बूढ़ा मर न गयो।।
बरस साठ-सत्तर के भीतर, केश सफेद भयो।
वात पित कफ घेर लियो है, नैनन निर बहो।
न हरि भक्ति न साधो की संगत,
न शुभ कर्म कियो।
कहै कबीर सुनो भाई साधो,
चोला छुट गयो।।

 
हे दयालु ईश मेरे दुख मेरे हर लीजिए | भजन  - रोहित कुमार 'हैप्पी'

हे दयालु ईश मेरे दुख मेरे हर लीजिए
दूं परीक्षा लंबी कितनी, कुछ तो करुणा कीजिए।
हे दयालु ईश मेरे दुख मेरे हर लीजिए ।।

 
राम का नाम बड़ा सुखदाई | भजन  - रोहित कुमार 'हैप्पी'

राम का नाम बड़ा सुखदाई
तेरे प्रेम में हुआ शौदाई।

 
जग में अजब है तेरा नाम | भजन  - रोहित कुमार 'हैप्पी'

जग में अजब है तेरा नाम
बिगड़े संवारे तू सब काम।
जग में अजब है तेरा नाम॥

 
मेरो दरद न जाणै कोय  - मीराबाई | Meerabai

हे री मैं तो प्रेम-दिवानी मेरो दरद न जाणै कोय।
घायल की गति घायल जाणै जो कोई घायल होय।
जौहरि की गति जौहरी जाणै की जिन जौहर होय।
सूली ऊपर सेज हमारी सोवण किस बिध होय।
गगन मंडल पर सेज पिया की किस बिध मिलणा होय।
दरद की मारी बन-बन डोलूं बैद मिल्या नहिं कोय।
मीरा की प्रभु पीर मिटेगी जद बैद सांवरिया होय।

- मीरा बाई
 
श्याम पिया मोरी रंग दे चुनरिया  - मीराबाई | Meerabai

श्याम पिया मोरी रंग दे चुनरिया ।। टेर ।।

 
होरी खेलत हैं गिरधारी  - मीराबाई | Meerabai

होरी खेलत हैं गिरधारी।
मुरली चंग बजत डफ न्यारो।
संग जुबती ब्रजनारी॥

चंदन केसर छिड़कत मोहन
                        अपने हाथ बिहारी।

भरि भरि मूठ गुलाल लाल संग
                        स्यामा प्राण पियारी।
गावत चार धमार राग तहं
                         दै दै कल करतारी॥


फाग जु खेलत रसिक सांवरो
                           बाढ्यौ रस ब्रज भारी।
मीराकूं प्रभु गिरधर मिलिया
                            मोहनलाल बिहारी॥

- मीरा बाई
 
मीरा के भजन  - मीराबाई | Meerabai

मीरा के भजनों का संग्रह।

 
उठ जाग मुसाफिर भोर भई  - वंशीधर शुक्ल

उठ जाग मुसाफिर भोर भई, अब रैन कहाँ जो तू सोवत है
जो जागत है सो पावत है, जो सोवत है वो खोवत है

खोल नींद से अँखियाँ जरा और अपने प्रभु से ध्यान लगा
यह प्रीति करन की रीती नहीं प्रभु जागत है तू सोवत है
उठ जाग मुसाफिर भोर भई, अब रैन कहाँ जो तू सोवत है

जो कल करना है आज करले जो आज करना है अब करले
जब चिडियों ने खेत चुग लिया फिर पछताये क्या होवत है
उठ जाग मुसाफिर भोर भई, अब रैन कहाँ जो तू सोवत है

नादान भुगत करनी अपनी ऐ पापी पाप में चैन कहाँ
जब पाप की गठरी शीश धरी फिर शीश पकड़ क्यों रोवत है
उठ जाग मुसाफिर भोर भई, अब रैन कहाँ जो तू सोवत है

 
रोहित कुमार हैप्पी के भजन  - रोहित कुमार 'हैप्पी'

रोहित कुमार हैप्पी का भजन संग्रह।

 

 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश