हिंदी के पुराने साहित्य का पुनरुद्धार प्रत्येक साहित्यिक का पुनीत कर्तव्य है। - पीताम्बरदत्त बड़थ्वाल।

Find Us On:

English Hindi
Loading
आज भी खड़ी वो... (काव्य) 
   
Author:सपना सिंह ( सोनश्री )

निराला की कविता, 'तोड़ती पत्थर' को सपना सिंह (सोनश्री) आज के परिवेश में कुछ इस तरह से देखती हैं:

आज भी खड़ी वो...
तोडती पत्थर,
दिखी थी आपको,
क्या पता था,
टूटेगा,
और क्या क्या ?
कविवर,
क्या कहूँ,
वो दिखी थी
रास्ते में आपको,
आज,
जो पढ़ता है,
चला जाता है,
बस उसी रास्ते में ।
जिस कसक ने,
लेखनी चलाई थी,
उस दिन की,
वो कसक तो,
आज भी,
करती हैं विवश।
अफ़सोस,
पर आज भी,
तोडती हैं पत्थर,
वो खड़ी,
उसी रास्ते में ।
पसीने से,
लथपथ रूप उसका,
आज दया नहीं,
लोभ पैदा करता हैं ।
वो तब भी,
मजबूर थी,
आज भी,
है बेबस,
फरक...
बस इतना है,
वो कल,
दिखी थी आपको,
आज,
दिखती है सबको।

- सपना सिंह ( सोनश्री )

#

Poem by Sapana Singh

Previous Page  | Index Page  |    Next Page

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश