राष्ट्रभाषा हिंदी का किसी क्षेत्रीय भाषा से कोई संघर्ष नहीं है।' - अनंत गोपाल शेवड़े

Find Us On:

English Hindi
Loading

बालमुकुन्द गुप्त

आपका जन्म 14 नवंबर 1865 को हरियाणा के रेवाड़ी जिले के गांव गुड़ियानी में हुआ था। आपके पिता का नाम लाला पूरणमल था ।  आपने अपना पूरा जीवन अध्ययन, लेखन एवं संपादन में लागाया व जीवन भर  स्वतंत्रता की अलख जगाए रखी।

भाषा: हिंदी

विधाएँ: निबंध, कविता

मुख्य कृतियाँ: शिवशंभु के चिट्ठे, उर्दू बीबी के नाम चिट्ठी, हरिदास, खिलौना, खेलतमाशा, स्फुट कविता, बालमुकुंद गुप्त निबंधावली

संपादन: अखबारे चुनार, कोहेनूर (दोनों उर्दू अखबार), भारत प्रताप (उर्दू मासिक), भारतमित्र, बंगवासी

अनुवाद: मडेल भगिनी (बाँग्ला उपन्यास), रत्नावली (हर्षकृत नाटिका)

निधन: 18 सितंबर 1907

 

Author's Collection

Total Number Of Record :1
माई लार्ड

माई लार्ड! लड़कपन में इस बूढ़े भंगड़ को बुलबुल का बड़ा चाव था। गांव में कितने ही शौकीन बुलबुलबाज थे। वह बुलबुलें पकड़ते थे, पालते थे और लड़ाते थे, बालक शिवशम्भु शर्मा बुलबुलें लड़ाने का चाव नहीं रखता था। केवल एक बुलबुल को हाथ पर बिठाकर ही प्रसन्न होना चाहता था। पर ब्राह्मणकुमार को बुलबुल कैसे मिले? पिता को यह भय कि बालक को बुलबुल दी तो वह मार देगा, हत्या होगी। अथवा उसके हाथ से बिल्ली छीन लेगी तो पाप होगा। बहुत अनुरोध से यदि पिता ने किसी मित्र की बुलबुल किसी दिन ला भी दी तो वह एक घण्टे से अधिक नहीं रहने पाती थी। वह भी पिता की निगरानी में।

...

More...

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश