भारतेंदु और द्विवेदी ने हिंदी की जड़ पाताल तक पहुँचा दी है; उसे उखाड़ने का जो दुस्साहस करेगा वह निश्चय ही भूकंपध्वस्त होगा।' - शिवपूजन सहाय।

Find Us On:

English Hindi
Loading
जंगल-जंगल ढूँढ रहा है | ग़ज़ल (काव्य) 
   
Author:विजय कुमार सिंघल

जंगल-जंगल ढूँढ रहा है मृग अपनी कस्तूरी को
कितना मुश्किल है तय करना खुद से खुद की दूरी को

इसको भावशून्यता कहिये चाहे कहिये निर्बलता
नाम कोई भी दे सकते हैं आप मेरी मजदूरी को

सम्बंधों के वो सारे पुल क्या जाने कब टूट गए
जो अकसर कम कर देते थे मन से मन की दूरी को

दोष कोई सिर पर मढ़ देंगे झूठे किस्से गढ़ लेंगे
कब तक लोग पचा पाएँगे मेरी इस मशहूरी को

हम बंधुआ मजदूर समय के हाल हमारा मत पूछो
जनम-जनम से तरस रहे हैं हम\' अपनी मजदूरी को

हमने भी बाजार में अपना खून-पसीना एक किया
रिश्वत क्यों कहते हो यारो थोड़ी-सी दस्तूरी को

-विजय कुमार सिंघल

#

हिंदी ग़ज़लकार विजय कुमार सिंघल की ग़ज़ल

[Ghazal by Vijay Kumar Singhal]

Previous Page  | Index Page  |    Next Page

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश