वह हृदय नहीं है पत्थर है, जिसमें स्वदेश का प्यार नहीं। - मैथिलीशरण गुप्त।

Find Us On:

English Hindi
Loading
भारत-दर्शन संकलन (बाल-साहित्य ) 
   
Author:अकबर बीरबल के किस्से

प्राचीनकाल के राजदरबारों में सब प्रकार के गुणियों का सम्मान किया जाता था। बादशाह अकबर के दरबार में बीरबल अपनी विनोदप्रियता व कुशाग्रबुद्धि के लिए जाने जाते थे। अकबरी राजसभा के नौरत्नों में बीरबल कोहेनूर हीरा कहे जा सकते हैं।

बीरबल व अकबर का लड़कपन से साथ था। बीरबल केवल एक हँसोड़े मात्र न होकर अच्छे शूरवीर, सामन्त, कवि, पंडित और सभाचातुर नरवीर थे। बीरबल बड़े दयालु व दानवीर होने के साथ-साथ बहुत हाजिरजवाब थे।

यहाँ अकबर-बीरबल के रोचक किस्सों को संकलित किया गया है।

Previous Page  |   Next Page

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.