जिस देश को अपनी भाषा और अपने साहित्य के गौरव का अनुभव नहीं है, वह उन्नत नहीं हो सकता। - देशरत्न डॉ. राजेन्द्रप्रसाद।

Find Us On:

English Hindi
Loading
मैं हिंदोस्तान हूँ | लघु-कथा (कथा-कहानी) 
   
Author:रोहित कुमार 'हैप्पी'

मैंने बड़ी हैरत से उसे देखा। उसका सारा बदन लहूलुहान था व बदन से मा‍नों आग की लपटें निकल रही थीं। मैंने उत्सुकतावश पूछा, "तुम्हें क्या हुआ है?"

"मुझे कई रोग लगे हैं; मज़हबवाद, भाषावाद, निर्धनता, अलगाववाद, भ्रष्टाचार, अनैतिकता इत्यादि जिन्होंने मुझे बुरी तरह जकड़ लिया है। यह जो आग मेरे बदन से निकल रही है यह मज़हबवाद और अलगाववाद की आग है। यदि जल्द ही मेरा इलाज न हुआ तो यह आग सबको भस्म कर देगी।" उसके दिल की वेदना चेहरे पर आ चुकी थी।

उसकी रहस्यमय बातों से मैं आश्चर्यचकित था। "क्या अजीबोग़रीब बातें करते हो! तुम हो कौन...?" मैंने पूछा।  

"मैं हिंदोस्तान हूँ!"

#

                                    - रोहित कुमार 'हैप्पी'

 

Previous Page  | Index Page  |    Next Page

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश