मैं महाराष्ट्री हूँ, परंतु हिंदी के विषय में मुझे उतना ही अभिमान है जितना किसी हिंदी भाषी को हो सकता है। - माधवराव सप्रे।

Find Us On:

English Hindi
Loading

पाँच क्षणिकाएँ  (काव्य)

Author: नवल बीकानेरी

अर्थी के
अर्थ को
अगर मानव समझता
तो कदाचित्
अर्थ का
सामर्थ्य समझता।

#

एक मुट्ठी में आज है
एक मुट्ठी में कल
कौन-सी मुट्ठी खोलूँ
तू सोचकर बता।

#

आदमी की कमर को
सड़क मत समझो।

#

पाँव के नीच से
निकाल गई
एक छोटी-सी कीड़ी,
बड़ी-सी बात कहकर
कि
मारने वाले से
बचाने वाला बड़ा होता है।

#

धर्म का संकट
संकट का धर्म
ऐसा धर्म
मुझे नहीं चाहिए।

- नवल बीकानेरी
[कागज का घर]

 

Back

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.