समस्त आर्यावर्त या ठेठ हिंदुस्तान की राष्ट्र तथा शिष्ट भाषा हिंदी या हिंदुस्तानी है। -सर जार्ज ग्रियर्सन।

Find Us On:

English Hindi
Loading

दो पल को ही गा लेने दो (काव्य)

Author: शिवशंकर वशिष्ठ

दो पल को ही गा लेने दो।
गाकर मन बहला लेने दो !
कल तक तो मिट जाना ही है;
तन मन सब लुट जाना ही है ;
लेकिन लुटने से पहले तो--
अपना रंग जमा लेने दो ।
दो पल को ही गा लेने दो।
गाकर मन बहला लेने दो !

फूल खिलखिला कर हँसते हैं,
फिर तो काँटे ही धंसते हैं;
काँटों से पहले फूलों को---
कुछ शृंगार सजा लेने दो।
दो पल को ही गा लेने दो।
गाकर मन बहला लेने दो!

जीवन क्या है ? इक सपना है,
सपने में सब कुछ अपना है;
अपनेपन की इन घड़ियों में
लघु संसार बसा लेने दो।
दो पल को ही गा लेने दो।
गाकर मन बहला लेने दो!

-शिवशंकर वशिष्ठ
[गीली आँखें गीले गीत, 1958, दिल्ली पुस्तक सदन]

Back

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.