समस्त आर्यावर्त या ठेठ हिंदुस्तान की राष्ट्र तथा शिष्ट भाषा हिंदी या हिंदुस्तानी है। -सर जार्ज ग्रियर्सन।

Find Us On:

English Hindi
Loading

खड़ी आँगन में अगर | ग़ज़ल (काव्य)

Author: शांती स्वरुप मिश्र

खड़ी आँगन में अगर, दीवार न होती !
यूं दिलों के बीच यारा, तक़रार न होती !

महकती इधर भी रिश्तों की खुशबुएँ,
गर जुबां की तासीर में, कटार न होती !

न आतीं यूं ज़िंदगी के सफर में आफ़तें,
अगर रहबरों के दिल में, दरार न होती !

यहाँ खिलते गुल भी महकता जहाँ भी,
गर नीयत बागवां की, शर्मसार न होती !

न अखरता इतना खिज़ाओं का मौसम,
अगर दिल में ख़ारों की, भरमार न होती !

न होता पैदा खामोशियों का सिलसिला,
अगर नफ़रतों से दुनिया, बेज़ार न होती !

यारो बन जाता आदमी भी देवता अगर,
ये दुनिया ख्वाहिशों का, शिकार न होती !

न होती ज़रूरत इधर मुखौटों की "मिश्र",
अगर आदमी की आत्मा, बीमार न होती !

-शांती स्वरुप मिश्र
 ईमेल : mishrass1952@gmail.com

 

Back

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.