हिंदी और नागरी का प्रचार तथा विकास कोई भी रोक नहीं सकता'। - गोविन्दवल्लभ पंत।

Find Us On:

English Hindi
Loading

मालवीय जी (कथा-कहानी)

Author: रोहित कुमार 'हैप्पी'

महामना मालवीय जी को एक विद्वान ने कहा-- "महाराज!  आप मुझे 100 गालियां देकर देख ले,  मुझे क्रोध नहीं आएगा।"

इस पर मालवीय जी ने मुस्कुराते हुए कहा--"पंडित जी!  आपके क्रोध की परीक्षा होने से पहले ही मेरी जबान तो गंदी हो ही जाएगी।  मैं ऐसा क्यों करूं?" 

प्रस्तुति: रोहित कुमार 'हैप्पी'

#

 

"किसी पर कीचड़ मत उछालिए, हो सकता है आपका निशाना चूक जाए पर आपके हाथ तो सन ही जाएंगे।"

- डोरथी पार्कर [अमेरिकी कवयित्री]

 

Back

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.