देशभाषा की उन्नति से ही देशोन्नति होती है। - सुधाकर द्विवेदी।

Find Us On:

English Hindi
Loading

क्यों न  (काव्य)

Author: मनीषा एन पाठक

क्यों न कुछ शब्द चुन लूँ,
कोई कविता या कहानी बुन लूँ,
भाव मेरे, संवेदना मेरी,
उथल-पुथल मेरे मन की,
क्यों ढूँढू, क्यों उधार लूँ,
क्यों न कोई गीत स्वयं गुन लूँ।

कौन करे मेरी अभिव्यक्ति,
मैं स्वयं की पहचानूँ शक्ति,
क्यों करूँ आशा-अभिलाषा,
क्यों न मैं स्वयं का स्वर बनूँ।

अवसाद, विषाद, हर्ष, उल्लास सब मेरे,
हिम्मत मेरी, हौसला मेरा,
रण करूँ, भ्रमित मन से,
क्यों न स्थितप्रज्ञ कहलाऊँ।

तृष्णा मेरी, मारीचिका मेरी,
क्यों ढूँढू राम को,
डरूँ क्यों रावण से,
क्यों आरोपित हूँ लाँघने की लक्ष्मण रेखा,
क्यों न अरण्य जीवन के मृग झरने से प्यास बुझाऊँ,
मैं दुर्गा, मैं ही ब्रह्म कहलाऊँ।।

- मनीषा एन पाठक
djp23238@gmail.com

Back

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश