हिंदी का काम देश का काम है, समूचे राष्ट्र निर्माण का प्रश्न है। - बाबूराम सक्सेना

Find Us On:

English Hindi
Loading

ब्लू माउंटेनस | ऑस्ट्रेलियन लोक-कथा (कथा-कहानी)

Click To download this content 

Author: रोहित कुमार 'हैप्पी'

सिडनी, ऑस्ट्रेलिया में अपने प्राकृतिक सौंदर्य से सभी को अभिभूत कर देने वाली 'ब्लू माउंटेनस' (Blue Mountains) के बारे में कहा जाता है कि कभी वे जीती-जागती तीन सुंदर युवतियां हुआ करती थीं ।

Blue Mountains Australia - The Aboriginal dream-time legend has it that three sisters, 'Meehni', 'Wimlah' and Gunnedoo' lived in the Jamison Valley as members of the Katoomba tribe.

ब्लू-माउंटेनस के बारे में ऑस्ट्रेलिया के आदिवासियों में यह कथा प्रचलित है कि बहुत पहले काटुंबा कबीलें में तीन बहनें थी जिनका नाम था - मिहीनी, विम्लाह और गुनेडो। ये तीनों बहने जैमिसन घाटी में अपने जनजातीय कबीले 'काटुंबा' के साथ रहती थीं।

इन तीनों सुंदर युवतियों को नेपियन जनजाति के तीन भाइयों से प्यार हो गया, किंतु उनका जनजातीय कानून उन्हें शादी करने से मना करता था।

तीनों भाइयों को यह कानून स्वीकार्य न था। उन्होंने अपनी प्रेमिकाओं को पाने के लिए बल-प्रयोग का मार्ग चुना और इसके लिए दो कबीलों में भारी लड़ाई हुई।

तीन बहनों के जीवन को गंभीर खतरा था। काटुंबा जनजाति के एक जादूगर ने उन तीनों बहनों की सुरक्षा का भार अपने ऊपर ले लिया। उन्हे किसी भी प्रकार के नुकसान से बचाने के लिए जादूगर ने तीनों बहनों को पत्थर में बदल दिया। जादूगर का इरादा था कि जब लड़ाई खत्म हो जाएगी तो वह पुनः उन तीन बहनों को जीवित कर देगा। दुर्भाग्यवश दो कबीलों की इस भयानक लड़ाई में जादूगर स्वयं मारा गया। केवल वह जादूगर ही इन पत्थरों को जीवित इंसानों में बदलने की शक्ति रखता था, अत: अब इसकी संभावना जाती रही और तब से ये पर्वत के रूप में उपस्थित हैं।

आज भी तीनों बहने 'ब्लू माउंटेन' के रूप में अपने भव्य सौंदर्य से लोगों को आकर्षित करती हुई, अपने कबीले की लड़ाई की याद दिलाती हैं।

-रोहित कुमार 'हैप्पी'

 

Back

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश