हिंदी और नागरी का प्रचार तथा विकास कोई भी रोक नहीं सकता'। - गोविन्दवल्लभ पंत।
हमें खेलने जाने दो  (बाल-साहित्य )  Click to print this content  
Author:शिव मृदुल

मम्मी-पापा! रोको मत,
बाहर जाते टोको मत।
उम्र खेलने जाने की,
दूध-दही, घी खाने की।
खाया-पिया पचाने दो,
हमें खेलने जाने दो।

अभी न पढ़ना आता है,
खूब खेलना भाता है।
बस्ता अभी न उठता है,
कमरे में दम घुटता है।
खुली हवा में जाने दो,
लारा-लप्पा गाने दो।

कच्ची उम्र हमारी है,
बस्ता कितना भारी है।
नाहक बोझ बढ़ाते हो,
हमको क्यों दहलाते हो।
कुछ तो ताकत आने दो,
हमें खेलने जाने दो।

-शिव मृदुल

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page
 
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें