Find Us On:

Hindi English
  • Kabir Visheshank
  • Kabirdas
  • Sant Kabir
1 2 3
Loading

कबीर विशेषांक (मई-जून 2015)

कबीर विशेषांक (मई-जून 2015)

2 जून को कबीर-जयंती है। यह अंक कबीर को समर्पित है। कबीर की समृति में यहां विशेष सामग्री प्रकाशित की गई है।

भारत-दर्शन का कबीर विशेषांक आपको भेंट।

इस अंक में कबीर से संबंधित रचनाओं को प्रमुखता से प्रकाशित किया गया है। पढ़िए कबीर के दोहे, भजन, कबीर की कुण्डलियां व आलेख।

7 मई को गुरुदेव रवीन्द्रनाथ ठाकुर का जन्म-दिवस है। इस अंक में पढ़िए रबीन्द्रनाथ टैगोर की कहानियाँ, कविताएं, आलेख व बाल साहित्य

मातृ-दिवस - 10 मई को मातृ-दिवस है। इस अवसर पर पढ़िए - जगदीश व्योम की कविता 'माँ',  मनीषा श्री की कविता, 'माँ',  मुन्नवर राणा के माँ पर कुछ अश़आर, रोहित कुमार 'हैप्पी' की माँ पर ग़ज़ल, माँ पर दोहे, मदर'स डे लघुकथा, विनोद बापना की माँ-बाप पर क्षणिकाएं

अन्य रचनाओं में - आनन्द विश्वास की, 'नाना वाली कथा-कहानी', रवि श्रीवास्तव की, 'पानी की बर्बादी', भावना चंद की तीन कविताएं, सूर्यभानु गुप्त की त्रिपदियाँ, अमिता शर्मा की क्षणिकाएं

हास्य में - कवि चोंच की हास्य कविता, 'फैशन',  'नैराश्य गीत' व डॉ शम्भुनाथ तिवारी की 'हज़ल'

कथा-कहानी के अतिरिक्त पढ़िए कविताएँ,  दोहे, ग़ज़लें, आलेख, व्यंग्य, लघु-कथाएं  बाल-साहित्य

मैथिलीशरण गुप्त की 'भारत-भारती' व 'रामावतार त्यागी की, 'मैं दिल्ली हूँ' भी पढ़ें।

हमारा प्रयास रहा है कि ऐसी सामग्री प्रकाशित की जाए जो इंटरनेट पर उपलब्ध नहीं है। आप पाएंगे की यहाँ प्रकाशित अधिकतर सामग्री केवल 'भारत-दर्शन' के प्रयास से इंटरनेट पर अपनी उपस्थिति दर्ज कर रही है । इस क्रम को आगे बढ़ाते हुए इस बार 'कबीर किवंदंतिया' प्रकाशित की गईं हैं। इससे पहले हम जैनेन्द्र की कहानी, 'पाजेब'  व यशपाल की कहानी  'परदा' प्रकाशित कर चुके हैं। 

आशा है पाठकों का स्नेह मिलता रहेगा। आप भी भारत-दर्शन में प्रकाशनार्थ अपनी रचनाएं भेजें। हिंदी लेखकों व कवियों के चित्रों की श्रृँखला भी देखें। यदि आप के पास दुर्लभ चित्र उपलब्ध हों तो अवश्य प्रकाशनार्थ भेजें। इस अनूठे प्रयास में अपना सहयोग दें।




विशेष

अब हिंदी में एडसेंस उपलब्ध
गूगल ने अपने एडसेंस का द्वार हिंदी भाषी वेबसाइट के लिए खोल दिया है। गूगल एडसेंस कमाई करने का सरल साधन है। कई वर्षों....
प्रेमचन्द और हिंदी
प्रेमचन्द उर्दू का संस्कार लेकर हिन्दी में आए थे और हिन्दी के महान लेखक बने। हिन्दी को अपना खास मुहावरा और खुलापन दिया।....

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश