Find Us On:

Hindi English
  • नया वर्ष शुभ हो
  • नया वर्ष शुभ हो
  • नया वर्ष शुभ हो
  • नया वर्ष शुभ हो
1 2 3 4
Loading

जनवरी-फरवरी 2017

जनवरी-फरवरी 2017

कथा-कहानी व कविता [Hindi story, poems & literature]

 

भारत-दर्शन की ओर से मकर संक्रांति पर शुभ-कामनाएं।

भारत-दर्शन की ओर से लोहड़ी पर शुभ-कामनाएं !

भारत-दर्शन की ओर से सभी पाठकों को नव-वर्ष की मंगल-कामनाएं!

अंतर्राष्ट्रीय दिनांक रेखा के करीब अपनी भौगोलिक स्थिति के कारण, न्यूजीलैंड नए साल का स्वागत करने वाले दुनिया के पहले देशों में से एक है। अत: न्यूजीलैंड में नया वर्ष दूसरे देशों से पहले मनाया जाता है।

 

नव-वर्ष का यह प्रवेशांक आपको भेंट। इस अंक में हिंदी कहानियाँ, कथाएं, लोक-कथाएं व लघु-कथाएं प्राथमिकता से प्रकाशित की गई हैं। इस बार पिछले कुछ वर्षों में भारत-दर्शन में प्रकाशित हिंदी की दस कालजयी कहानियाँ सूचीबद्ध की गई हैं ताकि इन लोकप्रिय कहानियों का आप सब आनंद उठा सकें।

 

इस अंक में हिंदी के महाकवि निराला की रचनाओं को भी विशेष स्थान दिया गया है।  महाकवि निराला का 21 फरवरी को जन्म-दिवस होता किंतु वे बसंत-पंचमी को ही अपना जन्म-दिवस मनाते थे। यदि महाकवि निराला से संबंधित सामग्री आपके पास उपलब्ध हो तो कृपया अवश्य भेजें।


निरालाजी की हस्तलिपि में लिखी उनकी कविता पढिए।

नये वर्ष पर कुछ श्रेष्ठ कवितायें आपको भेंट!


गणतंत्र-दिवस पर विशेष सामग्री - देश-भक्ति की कविताएं पढ़ें।  आज़ाद हिंद फौज के कौमी तराने पढ़ें। 

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती पर आप सभी को शुभ-कामनायें।

सुभाष चंद्र बोस पर विशेष सामग्री पढ़िये!

 

पढ़िए आज़ाद हिंद फौज के कौमी तराने। 


12 जनवरी को 'स्वामी विवेकानंद' की जयंती है। इस अवसर पर पढ़िए स्वामी विवेकानंद के प्रसंग, कविताएं, अमर-वचनपवहारी बाबा की कथाएं व उनका ऐतिहासिक भाषण


नेता जी सुभाष चन्द्र बोस की जयंती पर पढ़िए विशेष सामग्री! नेताजी की जयंती पर नेताजी के मनपसंद क़ौमी गीतों का संकलन यहाँ पढ़ें।

 

कथा-कहानी के अतिरिक्त पढ़िए - कविताएँ, गीत, दोहे, ग़ज़लें, आलेख, व्यंग्य, लघु-कथाएं  बाल-साहित्य

मैथिलीशरण गुप्त की 'भारत-भारती' व 'रामावतार त्यागी की, 'मैं दिल्ली हूँ' भी पढ़ें।

हमारा प्रयास रहा है कि ऐसी सामग्री प्रकाशित की जाए जो इंटरनेट पर उपलब्ध नहीं है। आप पाएंगे की यहाँ प्रकाशित अधिकतर सामग्री केवल 'भारत-दर्शन' के प्रयास से इंटरनेट पर अपनी उपस्थिति दर्ज कर रही है । इस क्रम को आगे बढ़ाते हुए इस बार गयाप्रसाद शुक्ल 'सनेही' की कविता, 'दिन अच्छे आने वाले हैं' प्रकाशित की गई है। इसी क्रम को आगे बढ़ाते हुए, 'निराला की ग़ज़लें' व जैनेन्द्र की कहानी, 'खेल' प्रकाशित की गई हैं।

आशा है पाठकों का स्नेह मिलता रहेगा। आप भी भारत-दर्शन में प्रकाशनार्थ अपनी रचनाएं भेजें। हिंदी लेखकों व कवियों के चित्रों की श्रृँखला भी देखें। यदि आप के पास दुर्लभ चित्र उपलब्ध हों तो अवश्य प्रकाशनार्थ भेजें। इस अनूठे प्रयास में अपना सहयोग दें।

Our News

जनवरी मास का नामकरण कैसे हुआ?
रोमन देवता जेनस के नाम पर वर्ष के पहले महीने जनवरी का नामकरण हुआ। जेनस के दो चेहरे बताए गए हैं। वह एक से आगे तथा दूसरे....

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश