मैं महाराष्ट्री हूँ, परंतु हिंदी के विषय में मुझे उतना ही अभिमान है जितना किसी हिंदी भाषी को हो सकता है। - माधवराव सप्रे।
अनपढ़-गवार | लघु-कथा (कथा-कहानी)  Click to print this content  
Author:रोहित कुमार 'हैप्पी'

बेटे ने अपनी पसंद की लड़की से शादी की थी। निसंदेह माँ की कैसोटी पर बहू के रूप में लड़के की पसंद पूरी तरह खरी नहीं उतरती थी लेकिन बेटा खुश रहे तो माँ उसकी खुशी में खुश थी।

घर में माँ-बेटा दो ही तो जीव थे। बेटा भी ऐसा कि कलियुग में लोगों को श्रवण की कथा याद आ जाए पर यह आज उसको क्या हुआ?

'तुम मुझे बसने भी दोगी कि नहीं? तुम उम्र-भर अनपढ़-गवार ही रही!' बेटा माँ पर चिल्ला रहा था, 'मधु को जो करना है, करने दिया करो। वह पढ़ी-लिखी है और उसे हर बात पर तुम्हारी दखलअंदाजी पसंद नहीं।' बेटा पैर पटकते हुए बाहर हो लिया था।

अपने श्रवण-कुमार के मुँह से निकले इन अग्नि-बाणों को माँ झेल नहीं पा रही थी। 'तू कितनी भोली है, तू कितनी प्यारी है..' चहकते रहने वाले बेटे का यह रौद्र रुप और उसके मुँह से 'अनपढ़-गवार' जैसे शब्द माँ के मानो प्राण-पखेरू ही उड़ा डालना चाहते थे।

एक ही तो बेटा है! माँ जाए तो कहाँ जाए? लेकिन अब वो दूर, कहीं बहुत दूर चली जाना चाहती थी।

-रोहित कुमार 'हैप्पी'

Previous Page  |  Index Page  |   Next Page
 
 
Post Comment
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें