हिंदी भारतीय संस्कृति की आत्मा है। - कमलापति त्रिपाठी।

Find Us On:

English Hindi
Loading

रोहित कुमार 'हैप्पी'

रोहित कुमार 'हैप्पी' न्यूज़ीलैंड में हिंदी न्यू मीडिया के माध्यम से हिंदी भाषा, लेखन व साहित्य के प्रचार-प्रसार हेतु प्रयासरत हैं। रोहित मैस्सी यूनिवर्सिटी, न्यूज़ीलैंड से पत्रकारिता  में प्रशिक्षित हैं व इसके अतिरिक्त उन्होंने न्यूज़ीलैंड में इंवेस्टिगेटिव सर्विसिस,  ग्राफिक्स व वेब डिवेलपमैंट में भी प्रशिक्षण लिया।

आप मूलत: कैथल (हरियाणा) से सम्बंध रखते हैं और आप कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय से स्नातकोत्तर हैं। हिंदी में कविता, ग़ज़ल, कहानी और लघु-कथा विधाओं पर लेखन करते हैं।

रोहित न्यूज़ीलैंड से प्रकाशित इंटरनेट पर विश्व की पहली हिंदी पत्रिका, 'भारत-दर्शन' का संपादन व प्रकाशन करते हैं व निरंतर हिंदी-कर्म में अग्रसर हैं। यह पत्रिका 1996 से इंटरनेट पर प्रकाशित हो रही है।


New Zealand Hindi journalist & author 

Author's Collection

1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 [Next] [Last]

Total Number Of Record :73
न्यूज़ीलैंड की हिंदी पत्रकारिता

यूँ तो न्यूजीलैंड में अनेक पत्र-पत्रिकाएँ समय-समय पर प्रकाशित होती रही हैं सबसे पहला प्रकाशित पत्र था 'आर्योदय' जिसके संपादक थे श्री जे के नातली, उप संपादक थे श्री पी वी पटेल व प्रकाशक थे श्री रणछोड़ क़े पटेल। भारतीयों का यह पहला पत्र 1921 में प्रकाशित हुआ था परन्तु यह जल्दी ही बंद हो गया।

...

More...
साक्षात्कार | इनसे मिलिए

रोहित कुमार हैप्पी द्वारा विभिन्न व्यक्तित्वों से साक्षात्कारों का संकलन।

...

More...
अमेरिका में हिंदी सर्वाधिक बोले जाने वाली भारतीय भाषा

अमेरिका जनगणना ब्यूरो ने अमरीका में बोली जाने वाली सभी भाषाओं के आंकड़े जारी किए हैं।

अमेरिका में बोले जाने वाली भारतीय भाषाओं में हिंदी सर्वाधिक बोली जाने वाली भाषा है। हिंदी बोलने वालों की संख्या लगभग 6.5 लाख है।

...

More...
देशभक्ति | Poem on New Zealand

NZ Flag

जब
हर व्यक्ति में
एक ‘देश' बसता हो, तब
हमलावर हार जाता है।

जब
धर्म, जाति या नस्ल
से ऊपर ‘देश' रखा जाता है
तब
सब विविधताएँ भी ‘शक्ति' हैं।

‘एकता में शक्ति है'
...

More...
मीना कुमारी की शायरी

दायरा, बैजू बावरा, दो बीघा ज़मीन, परिणीता, साहब बीबी और गुलाम तथा पाक़ीज़ा जैसी सुपरहिट फिल्में देने वाली अभिनेत्री मीना कुमारी को उनके अभिनय के लिए जाना जाता है। मीना कुमारी ने दशकों तक अपने अभिनय का सिक्का जमाए रखा था। 'मीना कुमारी लिखती भी थीं' इस बात का पता मुझे 80 के दशक में शायद 'सारिका' पत्रिका के माध्यम से चला था।

...

More...
जहां रावण पूजा जाता है

विजयादशमी पर भारतवर्ष में रावण के पुतले जलाने के प्रचलन से तो सभी परिचित हैं।  वहीं कुछ स्थान ऐसे भी हैं जहां रावण पूजनीय है। विदिशा से करीब 45 किमी दूर रावण गांव में  रावण की 12 फीट लंबी पत्थर की प्रतिमा स्थापित है और यहाँ सदियों से रावण की पूजा-अर्चना होती आ रही है। इस परंपरा का आज भी निर्वाह हो रहा है। दशहरे के अवसर पर तो आसपास के लोग भी इस गांव में आते हैैं। यहाँ रावण को 'रावण' संबोधित न कहकर 'रावण बाबा' पुकारा जाता है।

...

More...
आज के हाइकु

भूख-गरीबी
करा देती है दूर
बड़े करीबी।

#

औढ़ू, बिछाऊं
भाषण तुम्हारा ये
किसे खिलाऊँ?

#

सेवक भाई!
भाषण देता नहीं,
रोटी-कपड़ा!

#

जाने दे यार
देखा है हमने भी
नेताई प्यार।

#

सुनाता है तू
भूखे को कोई राग
...

More...
हिंदी

हिंदी के कवियों, लेखकों व साहित्यकारों का समारोह चल रहा था। बाहर मेज पर एक पंजीकरण-पुस्तिका रखी थी। जो भी आता उसे उस पुस्तिका में हस्ताक्षर करने थे। सभी आगंतुक ऐसा कर रहे थे। मैं भी पंक्ति में खड़ा था। अपना नम्बर आने पर मैं हस्ताक्षर करने लगा तो पुस्तिका में दर्ज सैंकड़ों हिंदी कवियों, लेखकों व साहित्याकारों के हस्ताक्षरों पर मेरी दृष्टि पड़ी - एक भी हस्ताक्षर हिंदी में नहीं था। हिंदी में रचना करने वाले कवियों, लेखकों व साहित्यकारों का यह कर्म मेरी समझ से परे था।

...

More...
हाइकु - रोहित कुमार हैप्पी

दोस्त है कृष्ण
तुम हर्जाना भरो
सुदामा बन!


#


राम बनना
डरना मत कभी
बनवास से!


#


हाथ थमाया
वो अपना बनाया
हाथ है, ना वो


#


चीर-हरण..
आँखें ढूंढ रही हैं...
कहाँ हो कृष्ण?


#


है मधुमास
आंखे गंगा-जमुना
...

More...
क्या महात्मा गांधी ने भगत सिंह व अन्य क्रांतिकारियों को बचाने का प्रयास किया था?

क्या महात्मा गांधी ने भगत सिंह व अन्य क्रांतिकारियों को बचाने का प्रयास किया था? उपरोक्त प्रश्न प्राय: समय-समय पर उठता रहा है। बहुत से लोगों का आक्रोश रहता है कि गांधी ने भगत सिंह को बचाने का प्रयास नहीं किया।

...

More...
1 | 2 | 3 | 4 | 5 | 6 | 7 | 8 [Next] [Last]

Total Number Of Record :73

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश