हिंदी और नागरी का प्रचार तथा विकास कोई भी रोक नहीं सकता'। - गोविन्दवल्लभ पंत।

Find Us On:

English Hindi
Loading

विशेष समाचार

बापू का बड़प्पन

न दिनों की बात है जब महात्मा गाँधी आगा खां पैलेस में कैद थे। उस महल को ही जेल का रूप दे दिया गया था। एक दिन जब गांधीजी सोकर उठे तो उन्होंने महसूस किया कि आज कुछ ज्यादा ही चहल - पहल हो रही है। उन्होंने कस्तूरबा से पूछा - आज क्या बात है ? कोई गुपचुप तैयारी चल रही है क्या ? कस्तूरबा ने कहा - मुझे तो कुछ पता नहीं , ये लोग क्या कर रहे हैं। पर कुछ खास बात है जरूर। यह सुनकर गांधीजी हँसे और बोले - तुमको सब पता है। उन सबको समझा दो कि वे अति उत्साह में कोई कार्यक्रम न बना लें। बिल्कुल साधारण ढंग से सब काम होना चाहिए। दरअसल उस दिन दो अक्टूबर था।

डॉ . सुशीला नैयर , मीरा बहन आदि बापू का जन्म-दिन कुछ अलग अंदाज़ में मनाने की तैयारी कर रही थीं। तभी गांधीजी को किसी ने बताया कि उन्हें जन्मदिन की बधाई देने के लिए जिले के कलेक्टर भी आने वाले हैं।
...

More...

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश