कविता मानवता की उच्चतम अनुभूति की अभिव्यक्ति है। - हजारी प्रसाद द्विवेदी।

Find Us On:

English Hindi
Loading

सौदागर ईमान के

 (काव्य) 
 
रचनाकार:

 शैल चतुर्वेदी | Shail Chaturwedi

आँख बंद कर सोये चद्दर तान के,
हम ही हैं वो सेवक हिन्दुस्तान के ।

बहते-बहते पार लगे हैं हम चुनाव की बाढ़ में,
स्वतंत्रता को पकड़ रखा है हमने अपनी दाढ़ में ।
हीरे औ' माणिक हैं हम ही प्रजातंत्र की खान के
कोई कहता काम चाहिए, कोई कहता रोटी दो,
कोई नंगा खड़ा सामने कहता हमें लंगोटी दो ।
सुनते-सुनते हाय हो गये बहरे दोनों कान के ।

चार साल दिल्ली में काटे, बाकी जन-सम्पर्क में,
सारी शक्ति लगा देते है, अपनी पंचम वर्ष में ।
गरज-गरज कर भाषण देते हम बादल-तूफान के ।

कब किससे मांगा हमने, देनेवाले दे जाते हैं,
दे कर बहती गगा में, नैय्या अपनी खे जाते हें,
रामराज के जादूगर, हम सौदागर ईमान के ।।

-शैल चतुर्वेदी

साभार: भारतीय मूर्ख शिरोमणी १९७५

 

Back

 

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश