राष्ट्रभाषा के बिना आजादी बेकार है। - अवनींद्रकुमार विद्यालंकार।

Find Us On:

English Hindi
Loading

सागर के वक्ष पर

 (काव्य) 
Click To download this content  
रचनाकार:

 स्वामी विवेकानंद

नील आकाश में बहते हैं मेघदल,
श्वेत कृष्ण बहुरंग,
तारतम्य उनमें तारल्य का दीखता,
पीत भानु-मांगता है विदा,
जलद रागछटा दिखलाते ।

बहती है अपने ही मन से समीर,
गठन करता प्रभंजन,
गढ़ क्षण में ही, दूसरे क्षण में मिटता है,
कितने ही तरह के सत्य जो असम्भव हैं -
जड़ जीव, वर्ण तथा रूप और भाव बहु ।

आती वह तुलाराशि जैसी,
फिर बाद ही लखो महानाग,
देखो विक्रम दिखाता सिंह,
लखो युगल प्रेमियों को,
किन्त मिल जाते सब
अन्त में आकाश में ।

नीचे सिन्धु गाता बहु तान,
महीमान किंतु नहीं वह,
भारत, तुम्हारी अम्बुराशि विख्यात है,
रूप-राग जलमय हो जाते हैं,
गाते हैं यहाँ किन्तु
करते नहीं गर्जन।


- स्वामी विवेकानंद
[ विवेकानन्द साहित्य]
'सागर के वक्ष पर' स्वामीजी की बंग्ला कविता, 'सागरे वक्षे' का अनुवाद है। नीचे हम अँग्रेज़ी कविता भी प्रकाशित कर रहे हैं ताकि आप इसे भी पढ़ सकें।

 

#

On the Sea's Bosom

In blue sky floats a multitude of clouds --
White, black, of many shades and thicknesses;
An orange sun, about to say farewell,
Touches the massed cloud-shapes with streaks of red.

The wind blows as it lists, a hurricane
Now carving shapes, now breaking them apart:
Fancies, colours, forms, inert creations --
A myriad scenes, though real, yet fantastic.

There light clouds spread, heaping up spun cotton;
See next a huge snake, then a strong lion;
Again, behold a couple locked in love.
All vanish, at last, in the vapoury sky.

Below, the sea sings a varied music,
But not grand, O India, nor ennobling:
Thy waters, widely praised, murmur serene
In soothing cadence, without a harsh roar.

- Swami Vivekananda

Back

 

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश