जिस देश को अपनी भाषा और अपने साहित्य के गौरव का अनुभव नहीं है, वह उन्नत नहीं हो सकता। - देशरत्न डॉ. राजेन्द्रप्रसाद।

Find Us On:

English Hindi
Loading

नारी के उद्गार

 (काव्य) 
 
रचनाकार:

 सुदर्शन | Sudershan

'माँ' जय मुझको कहा पुरुष ने, तु्च्छ हो गये देव सभी ।
इतना आदर, इतनी महिमा, इतनी श्रद्धा कहाँ कमी?
उमड़ा स्नेह-सिन्धु अन्तर में, डूब गयी आसक्ति अपार । 
देह, गेह, अपमान, क्लेश, छि:! विजयी मेरा शाश्वत प्यार ।।

'बहिन !' पुरुष ने मुझे पुकारा, कितनी ममता ! कितना नेह !
'मेरा भैया' पुलकित अन्तर, एक प्राण हम, हों दो देह ।
कमलनयन अंगार उगलते हैं, यदि लक्षित हो अपमान ।
दीर्ध भुजाओं में भाई की है रक्षित मेरा सम्मान ।।

'बेटी' कहकर मुझे पुरुष ने दिया स्नेह, अन्तर-सर्वस्व ।
मेरा सुख, मेरी सुविधा की चिन्ता-उसके सब सुख ह्रस्व ।।
अपने को भी विक्रय करके मुझे देख पायें निर्बाध ।
मेरे पूज्य पिताकी होती एकमात्र यह जीवन-साध ।।

'प्रिये !' पुरुष अर्धांग दे चुका, लेकर के हाथों में हाथ ।
यहीं नहीं-उस सर्वेश्वर के निकट हमारा शाश्वत साथ ।।
तन-मन-जीवन एक हो गये, मेरा घर-उसका संसार ।
दोनों ही उत्सर्ग परस्पर, दोनों पर दोनों का मार ।।

'पण्या!' आज दस्यु कहता है ! पुरुष हो गया हाय पिशाच ! 
मैं अरक्षिता, दलिता, तप्ता, नंगा पाशवता का नाच !!
धर्म और लज्जा लुटती है ! मैं अबला हूँ कातर, दीन !
पुत्र ! पिता !  भाई ! स्वामी ! सब तुम क्या इसने पौरुषहीन?

-सुदर्शन

 

Back

 

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश