कविता मानवता की उच्चतम अनुभूति की अभिव्यक्ति है। - हजारी प्रसाद द्विवेदी।

Find Us On:

English Hindi
Loading

गर धरती पर इतना प्यारा

 (बाल-साहित्य ) 
 
रचनाकार:

 डॉ शम्भुनाथ तिवारी

गर धरती पर इतना प्यारा,
बच्चों का संसार न होता !

बच्चे अगर नहीं होते तो,
घर-घर में वीरानी होती ।
दिल सबका छू लेनेवाली ,
नहीं तोतली बानी होती ।
गली-गली में खेल-खिलौनों,
का, भी कारोबार न होता ।।
गर धरती पर इतना प्यारा,
बच्चों का संसार न होता !

बात-बात में तुनकमिजाजी,
जिद्द-शरारत करता कौन ?
बातें मनवाने की खातिर ,
घर वालों से लड़ता कौन ?
धक्का-मुक्की ,मानमनौवल,
झूठमूठ मनुहार न होता ।।
गर धरती पर इतना प्यारा,
बच्चों का संसार न होता !

माँ की चोटी खींचखींचकर,
दिनभर उसे सताता कौन ?
दादी का चश्मा,दादा की ,
छतरी-छड़ी छुपाता कौन ?
उन दोनों की लाठी बनने -
को कोई तैयार न होता ।।
गर धरती पर इतना प्यारा,
बच्चों का संसार न होता !

अपनी बालकलाओं से गर,
कान्हा जग को नहीं रिझाते।
तो शायद ही सूरदास जी ,
वात्सल्य -सम्म्राट कहाते ।।
छेड़ सके जो तान सुरीली ,
वीणा में वह तार न होता ।।
गर धरती पर इतना प्यारा,
बच्चों का संसार न होता !

बच्चों की नटखट लीलाएँ ,
जिद्द-शरारत लगतीं प्यारी।
बिन बच्चों के कैसी दुनिया,
जहाँ नहीं उनकी किलकारी।
स्वर्ग-सरीखा सुंदर धरती-
का, सपना साकार न होता ।
गर धरती पर इतना प्यारा,
बच्चों का संसार न होता !


- डॉ. शम्भुनाथ तिवारी
  एसोशिएट प्रोफेसर
  हिंदी विभाग,
  अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी,
  अलीगढ़(भारत)
  संपर्क-09457436464
  ई-मेल: sn.tiwari09@gmail.com

Back

 

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश