कविता मानवता की उच्चतम अनुभूति की अभिव्यक्ति है। - हजारी प्रसाद द्विवेदी।

Find Us On:

English Hindi
Loading

मैं दिल्ली हूँ | दो

 (काव्य) 
 
रचनाकार:

 रामावतार त्यागी | Ramavtar Tyagi

जब चाहा मैंने तूफ़ानों के, अभिमानों को कुचल दिया ।
हँसकर मुरझाई कलियों को, मैंने उपवन में बदल दिया ।।

मुझ पर कितने संकट आए, आए सब रोकर चले गए ।
युद्धों के बरसाती बादल, मेरे पग धोकर चले गए ।।

कब मेरी नींव रखी किसने, यह तो मुझको भी याद नहीं ।
पूँछू किससे; नाना-नानी, मेरा कोई आबाद नहीं ।।

इतिहास बताएगा कैसे, वह मेरा नन्हा भाई है ।
उसको इन्सानों की भाषा तक, मैंने स्वयं सिखाई है ।।

हाँ, ग्रन्थ महाभारत थोड़ा, बचपन का हाल बताता है ।
मेरे बचपन का इन्द्रप्रस्थ ही, नाम बताया जाता है ।।

कहते हैं मुझे पांडवों ने ही, पहली बार बसाया था ।
और उन्होंने इन्द्रपुरी से सुन्दर मुझे सजाया था ।।

मेरी सुन्दरता के आगे सब, दुनिया पानी भरती थी ।
सुनते हैं देश विदेशो पर, तब भी मैं शासन करती थी ।।

किन्तु महाभारत से जो, हर ओर तबाही आई थी ।
वह शायद मेरे घर में भी, कोई वीरानी लाई थी ।।

बस उससे आगे सदियों तक, मेरा इतिहास नहीं मिलता ।
मैं कितनी बार बसी-उजड़ी, इसका कुछ पता नहीं चलता ।।

ईसा से सात सदी पीछे, फिर बन्द कहानी शुरू हुई ।
आठवीं सदी के आते ही, भरपूर जवानी शुरू हुई ।।

सचमुच तो राजा अनंगपाल ने फिरसे मुझे बसाया था ।
मेरी शोभा के आगे तब, नन्दन-वन भी शरमाया था ।।

मेरे पाँवों को यमुना ने, आंखों से मल-मल धोया था ।
बादल ने मेरे होंठों को आ-आकर स्वयं भिगोया था ।।

- रामावतार त्यागी

 

Back

 

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश