मैं महाराष्ट्री हूँ, परंतु हिंदी के विषय में मुझे उतना ही अभिमान है जितना किसी हिंदी भाषी को हो सकता है। - माधवराव सप्रे।

बिहारी के दोहे | Bihari's Couplets

 (काव्य) 
Print this  
रचनाकार:

 बिहारी | Bihari

रीति काल के कवियों में बिहारी सर्वोपरि माने जाते हैं। सतसई बिहारी की प्रमुख रचना हैं। इसमें 713 दोहे हैं। बिहारी के दोहों के संबंध में किसी ने कहा हैः

सतसइया के दोहरा ज्यों नावक के तीर।
देखन में छोटे लगैं घाव करैं गम्भीर।।

#

नहिं पराग नहिं मधुर मधु नहिं विकास यहि काल।
अली कली में ही बिन्ध्यो आगे कौन हवाल।।

कोटि जतन कोऊ करै, परै न प्रकृतिहिं बीच।
नल बल जल ऊँचो चढ़ै, तऊ नीच को नीच।।

कब को टेरत दीन ह्वै, होत न स्याम सहाय।
तुम हूँ लागी जगत गुरु, जगनायक जग बाय।।

#

Back
More To Read Under This
बिहारी के होली दोहे
Posted By Chand   on Wednesday, 16-Jan-2019-05:16
Very nice doha sir
Posted By shailendra Tiwari   on Friday, 27-Nov-2015-12:31
वाओ क्या बात है आज के कबि तो सिर्फ अपने बारे में लिखते है हमारे साथ क्या हुआ
Posted By brij.kumar   on Wednesday, 25-Nov-2015-08:11
थैंक्स
 
Post Comment
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें