यदि स्वदेशाभिमान सीखना है तो मछली से जो स्वदेश (पानी) के लिये तड़प तड़प कर जान दे देती है। - सुभाषचंद्र बसु।

याचना | कविता

 (काव्य) 
Print this  
रचनाकार:

 कन्हैयालाल नंदन (Kanhaiya Lal Nandan )

मैंने पहाड़ से माँगा :
अपनी स्थिरता का थोड़ा-सा अंश मुझे दे दो
पहाड़ का मन न डोला ।

मैंने झरने से कहा :
दे दो थोड़ी-सी अपनी गति मुझे भी
झरना अपने नाद में मस्त रहा
कुछ न बोला।

मैंने दूब से माँगी थोड़ी-सी पवित्रता व
ह अपने दलों में मुस्कराती रही।
मैंने फूलों से माँगी ज़रा-सी कोमलता
और चिड़िया से
उसका चुटकी भर आकाश
लहरों से थोड़ी-सी चंचल तरलता
धूप से एक टुकड़ा उजास ।

ओक में भरने को खड़ा रहा देर तक
कहीं से कुछ न पाया
याचना अकारथ जाते देख
आहत मन लौट आया
तरस खाया हवा ने
हौले से कान में बोली :
नाहक हो उदास
अपने लिए माँगने से बाहर निकलो
निश्छल, सहज हो जाओ
यह सब प्रचुर है तुम्हारे पास ।
माँगने से कुछ नहीं मिलेगा
देने से पाओगे,
जितना ही हरियाली बाँटोगे
अंदर हरे हो जाओगे।

-कन्हैयालाल नंदन

Back
 
Post Comment
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें