बिना मातृभाषा की उन्नति के देश का गौरव कदापि वृद्धि को प्राप्त नहीं हो सकता। - गोविंद शास्त्री दुगवेकर।

Find Us On:

English Hindi
Loading

कुछ न किसी से कहें जनाब | ग़ज़ल

 (काव्य) 
 
रचनाकार:

 रेखा राजवंशी | ऑस्ट्रेलिया

कुछ न किसी से कहें जनाब
अच्छा है चुप रहें जनाब

दुनिया बेहद जालिम है
हंसके सब कुछ सहें जनाब

पत्थर से न सख्त रहें
पानी बन के बहें जनाब

और कभी तो खोलें भी
अपने मन की तहें जनाब

कुछ तो मज़बूती रखिये
बालू से न ढहें जनाब

राजमहल को क्यों देखें
जितना है खुश रहें जनाब

-रेखा राजवंशी, ऑस्ट्रेलिया

 

Back

 

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.