यदि स्वदेशाभिमान सीखना है तो मछली से जो स्वदेश (पानी) के लिये तड़प तड़प कर जान दे देती है। - सुभाषचंद्र बसु।

झेप अपनी मिटाने निकले हैं

 (काव्य) 
Print this  
रचनाकार:

 विजय कुमार सिंघल

झेप अपनी मिटाने निकले हैं
फिर किसी को चिढ़ाने निकले हैं

ऊब कर आदमी की बस्ती से
टहलने के बहाने निकले हैं

शुक्र है अपनी अंधी  बस्ती में
चंद हज़रात काने निकले हैं

पोंछ कर अश्क बंद कमरे में
आज फिर मुस्कराने निकले हैं

सूदखोरों की एक अमानत हैं 
खेत से जितने दाने निकले हैं

जिसका चूल्हा जला न हफ्तों से
अब उसी को जलाने निकले हैं

-विजय कुमार सिंघल

Back
 
Post Comment
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें