देश तथा जाति का उपकार उसके बालक तभी कर सकते हैं, जब उन्हें उनकी भाषा द्वारा शिक्षा मिली हो। - पं. गिरधर शर्मा।

Find Us On:

English Hindi
Loading

प्रश्न | लघुकथा

 (कथा-कहानी) 
 
रचनाकार:

 रबीन्द्रनाथ टैगोर | Rabindranath Tagore

बाप श्मशान से घर लौटा।

सात वर्ष का लड़का--उघाड़े बदन, गले में सोने का ताबीज़--अकेला गली वाले जंगल के पास खड़ा था।

क्या सोच रहा था, उसे खुद नहीं मालूम।

सवेरे की घाम सामने वाले नीम की फुनगी पर दिखाई देने लगी; अमिया बेचनेवाला, गली में आवाज़ देता हुआ निकल गया।

बाप ने आकर लल्ला को गोद में लिया; लल्ला ने पूछा--"माँ कहाँ है?"

बाप ने ऊपर की ओर सिर उठाकर कहा-"भगवान के पास।"

रात को, शोक-सन्तप्त बाप, सोते-सोते क्षण-क्षण में रोने लगा- आँखों में आने वाले आँसू छाती की छाती में ही घुमड़-घुमड़कर रह गए।

दरवाज़े पर टिमटिमाती हुईं लालटेन है, दीवारपर छिपकली का जोड़ा।

सामने खुली छत है। मालूम नहीं, कब से लल्ला वहाँ आकर खड़ा है।

चारों तरफ़ बत्ती-बुझे मकान मानो दैत्यपुरीके पहरेदार-से खड़े-खड़े सो रहे हैं।

लल्ला उघड़े-बदन खड़ा-खड़ा ऊपर आकाश की ओर एकटक देख रहा है।

उसका भटका हुआ मन किसी से पूछ रहा है --"भगवान के पास जाने का रास्ता किधर हैं?"

आकाश उसका कोई जवाब नहीं देता; सिर्फ़ तारों में गूंगे अन्धकार के आँसू चमक रहे हैं।

रबीन्द्रनाथ टगौर
अनु०-धन्यकुमार, विशाल भारत [जनवरी 1942]

Back

 

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश