भाषा का निर्माण सेक्रेटरियट में नहीं होता, भाषा गढ़ी जाती है जनता की जिह्वा पर। - रामवृक्ष बेनीपुरी।

विंग कमांडर अभिनंदन

 (विविध) 
Print this  
रचनाकार:

 रोहित कुमार 'हैप्पी' | न्यूज़ीलैंड

विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान (Wg Cdr V Abhinandan) भारतीय वायुसेना के पायलट हैं। आपका जन्म-दिवस 21 जून को होता है।

विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान (Wg Cdr V Abhinandan)


आपका पूरा नाम 'अभिनंदन वर्तमान' ( Abhinandan Varthaman) है। हिन्दी में आपका नाम, 'अभिनंदन वर्तमान' बोला जाता जबकि दक्षिण भारत में आपका नाम, 'अभिनंदन वर्थमान' बोला जाएगा। दक्षिण भारत में 'त' को 'थ' बोला जाता है जैसे 'हिंदुस्तान' को 'हिंदुस्थान' कहा जाता है।

कई समाचार पत्र-पत्रिकाओं में आपका नाम 'अभिनंदन वर्धमान' प्रकाशित किया गया है।

 

पारिवारिक पृष्ठभूमि

आपके दादा भी भारतीय वायुसेना में थे। उन्होंने द्वितीय विश्व युद्ध में भाग लिया था। आपके पिता का नाम एस वर्तमान (S Varthaman) भारतीय वायुसेना में एयरमार्शल थे। आपकी पत्नी सेवानिवृत्त स्क्वाड्रनलीडर तन्वी मारवाह ने भी भारतीय वायुसेना में 15 वर्षों तक सेवाएँ दी हैं।

विंग कमांडर अभिनंदन व उनकी पत्नी तन्वी मारवाह बचपन के साथी हैं। दोनों पांचवीं कक्षा से एक-दूसरे से परिचित थे। दोनों ने कॉलेज में माइक्रोबायोलॉजी की डिग्री भी एकसाथ ली थी। 

आपका भाई भी वायुसेना में अपनी सेवाएँ दे रहा है। अभिनंदन की तीन पीढ़ियाँ भारत की सेना से जुड़ी हुई हैं।

 

शिक्षा

अभिनंदन ने अपनी 10वीं कक्षा तक की प्रारम्भिक शिक्षा केंद्रीय विद्यालय बेंगलुरु से प्राप्त की।

उच्च शिक्षा दिल्ली में पूरी की है। उस समय उनके पिता भी भारतीय वायुसेना में थे और दिल्ली में ही भारतीय वायुसेना में पदस्थ थे, इसलिए पूरा परिवार यहीं रहा करता था। अभिनंदन खड़कवासला स्थित राष्ट्रीय रक्षा अकादमी के छात्र रहे हैं।

अभिनंदन को मिग -21 विमान बहुत प्रिय है और वह इस विमान के बहुत बड़े प्रशंसक हैं।

विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान (Wg Cdr V Abhinandan) को उनके लड़ाकू विमान के क्षतिग्रस्त होने पर 27 फरवरी 2019 को पाकिस्तानी सेना ने अपनी हिरासत में ले लिया था। दो दिनों से अधिक पाकिस्तानी हिरासत में रखने के बाद ‘पाकिस्तान' ने ‘जिनेवा संधि' (Geneva Convention) के अंतर्गत विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान को 1 मार्च 2019 को छोड़ दिया गया।

 

घर लौटने पर

वायुसेना ने विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान की वापसी पर प्रसन्नता व्यक्त की और बताया कि भारत पहुंचते ही अभिनंदन ने कहा, 'अपने देश आकर बहुत अच्छा लग रहा है।'

विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान के घर लौटने पर सम्पूर्ण देश ने उनका हार्दिक स्वागत किया। पूरा देश उन्हें एक ‘जाँबाज' सिपाही के रूप में देख रहा है। कोई उनकी तुलना हनुमान से कर रहा है तो कोई उन्हें ‘वायुवीर' कह कर अलंकृत कर रहा है। उनके सकुशल घर लौटने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री राजनाथ सिंह, रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी सहित अनेक नेताओं ने प्रसन्नता जताई है।

मेजर जनरल (डॉ.) गगनदीप बक्शी (सेवानिवृत) ने विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान की घर वापसी पर प्रसन्नता व्यक्त की है और साथ ही आतंकवाद के समाधान पर यह संदेश भी दिया, "देश में एक वर्ग ऐसा है जो शांति में नोबल पुरस्कार पाने की होड़ में लगा हुआ है। इसी वजह से वह आतंकियों के सफाए को भी मानवाधिकार हनन करार देता है।

एंटी टेरोरिस्ट फ्रंट के संस्थापक बिट्टा ने विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान को ‘ज़िंदा शहीद' की संज्ञा दी है। उन्होंने कहा है कि अभिनंदन ने एक मिसाल कायम कि है और वे पूरे देश के लिए, विशेषत: नयी पीढ़ी के लिए एक प्रेरणा-स्रोत हैं। बिट्टा 1993 में युवक कांग्रेस के अध्यक्ष थे औऱ उनके दफ्तर के बाहर एक कार में आरडीएक्स (RDX) बम रख दिया गया था। जैसे ही बिट्टा बाहर आए, रिमोट कंट्रोल से आतंकवादियों ने विस्फोट कर दिया। इस हमले में बिट्टा सहित 25 लोग बुरी तरह घायल हो गए थे और 9 लोगों की मौत हो गई थी। इस घटना के बाद से बिट्टा को ‘जिंदा शहीद' कहा जाने लगा और उन्होंने आतंकवादियों के विरुद्ध देश में आवाज़ उठायी। बिट्टा आतंकवाद के कट्टर विरोधी हैं। वे देश में शहीदों के बच्चों को मुफ्त पढ़ाने के लिए प्रयासरत हैं।


-रोहित कुमार ‘हैप्पी'
[कुछ जानकारी सुरक्षा कारणों से प्रकाशित नहीं की जा रही। ]

Back
 
Post Comment
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें