जिस देश को अपनी भाषा और अपने साहित्य के गौरव का अनुभव नहीं है, वह उन्नत नहीं हो सकता। - देशरत्न डॉ. राजेन्द्रप्रसाद।

Find Us On:

English Hindi
Loading

मीरा के पद - Meera Ke Pad

 (काव्य) 
 
रचनाकार:

 मीराबाई | Meerabai

दरद न जाण्यां कोय

हेरी म्हां दरदे दिवाणी म्हारां दरद न जाण्यां कोय।
घायल री गत घाइल जाण्यां, हिवडो अगण संजोय।
जौहर की गत जौहरी जाणै, क्या जाण्यां जिण खोय।
दरद की मार्यां दर दर डोल्यां बैद मिल्या नहिं कोय।
मीरा री प्रभु पीर मिटांगां जब बैद सांवरो होय॥

- मीरा

#

Back

 

More To Read Under This
अब तो हरि नाम लौ लागी | पद
राम रतन धन पायो | मीराबाई के पद
हरि बिन कछू न सुहावै | मीरा के पद
झूठी जगमग जोति | मीरा के पद
अब तो मेरा राम | मीरा के पद
म्हारे तो गिरधर गोपाल | मीरा के पद
रंग भरी राग | मीरा के पद
फागुन के दिन चार | मीरा के पद
Posted By ALOK VERMA   on Wednesday, 20-Jul-2016-07:47
GOOD
Posted By sai   on Sunday, 15-Nov-2015-10:19
good
Posted By kashvi   on Saturday, 14-Nov-2015-12:44
Very nice site it gives me every information I required.

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश