हिंदी के पुराने साहित्य का पुनरुद्धार प्रत्येक साहित्यिक का पुनीत कर्तव्य है। - पीताम्बरदत्त बड़थ्वाल।

Find Us On:

English Hindi
Loading
शारदा और मोर  (कथा-कहानी) 
   
Author:सूर्यकांत त्रिपाठी 'निराला' | Suryakant Tripathi 'Nirala'

शारदा देवताओं की रानी थीं । वैसी रूपवती दूसरी देवी नहीं थी । उनकी प्यारी चिड़िया मोर था । खुशनुमा परों और भारी-भरकम आकार के कारण वह देवताओं की रानी सरस्वती का वाहन होने लायक था ।

कुछ हो, एक दिन मोर ने मन में सोचा, "मेरे साथ बड़ा बुरा बर्ताव किया गया है । मुझे वैसी अच्छी आवाज नहीं दी गयी जैसे कोयल को, नहीं तो रूप के अनुरूप ही मेरा स्वर होता ।" उसने शारदा से कोयल की-सी आवाज माँगी ।

देवी ने उसकी विनय पर यह उत्तर दिया- "हर चिड़िया को उसके योग्य दान मिला है । कोयल काली और सीधी चिड़िया है । उसको मधुर स्वर मिला । तुम्हारी आवाज तीखी और दिल को वैसी लुभाने वाली नहीं, मगर तुम्हारे पर इतने सुन्दर हैं कि देखकर दूसरों को जलन होती है । तुम्हें जो क्रुछ मिला है, उसके लिए कृतज्ञ रहो । जो तुम्हें नहीं मिल सकता, उसके लिए हाथ न बढ़ाओ । अपने भाग्य से सन्तोष रखना सीखो ।"

- सूर्यकांत त्रिपाठी निराला

[निराला की सीखभरी कहानियां]


#

यदि आप इन कहानियों को अपने किसी प्रकार के प्रकाशन (वेब साइट, ब्लॉग या पत्र-पत्रिका) में प्रकाशित करना चाहें तो कृपया मूल स्रोत का सम्मान करते हुए 'भारत-दर्शन' का उल्लेख अवश्य करें।

 

Previous Page  | Index Page  |    Next Page

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश