मैं दुनिया की सब भाषाओं की इज्जत करता हूँ, परन्तु मेरे देश में हिंदी की इज्जत न हो, यह मैं नहीं सह सकता। - विनोबा भावे।

Find Us On:

English Hindi
Loading
स्वामी रामदेव (विविध)  Click To download this content
   
Author:रोहित कुमार 'हैप्पी'

स्वामी रामदेव से भारत-दर्शन के संपादक रोहित कुमार 'हैप्पी' से हुई बातचीत के मुख्य अंशः

आज की दिनचर्या और आज के परिवेश में योग का क्या महत्व है?

देखिए, आज की हो या कल की हो, व्यक्ति का शरीर जब से बना है उस शरीर को स्वस्थ रखने के लिए हमें प्रकृति के कुछ नियमों का पालन करना पडता है। योग

Swami Ramdev


प्रकृति से जुडी हुई वो सुंदरतम् विधा है जिससे व्यक्ति स्वस्थ रह सकता है। अत: योग एक जीवन जीने की कला, योग एक जीवन जीने की विधा, योग एक वो परिकल्प जिससे हम अपने अस्तित्व, अपनी चेतना से जुडते हैं गहरे। आज के परिपेक्ष्य में भी उतनी ही आवश्यकता है योग की जितनी सदियों पहले थी। मायने, व्यक्ति का शरीर, व्यक्ति का मन, व्यक्ति का चित, व्यक्ति की चेतना का स्वरूप तो एक ही जैसा बना रहता है बाहर की परिस्थितियाँ बदलती रहती हैं। और बदलती हुई परिस्थितियों के परिवेश में यदि देखा जाए योग को तो वो अधिक महत्वपूर्ण हो जाता है। आज जो चारों तरफ प्रदूषण है, जो आज की प्रतियोगिताएं हैं, प्रतिस्पर्धाएं हैं, उन प्रतियोगिताओं और प्रतिस्पर्धाओं में जो व्यक्ति आगे बढ़ना चाहता है तो उसके लिए भी योग एक बहुत सशक्त माध्यम है जो कि आंतरिक उर्जा प्रदान करता है।

आप योग द्वारा बहुत सी बीमारियों का इलाज कर रहे हैं। क्या योग द्वारा कैंसर और एड्स जैसी बिमारियों का भी इलाज किया जा सकता है?

पहली बात तो यह है कि कैंसर और एड्स तो बहुत बडी बिमारियाँ हैं। इन बिमारियों का भी योग द्वारा हम इलाज करते हैं, उसके साथ हम आयुर्वेद चिकित्सा का आशय लेते हैं।

एड्स के बारे में मैं अभी टिप्पणी नहीं करता लेकिन इससे भी और अधिक समस्याएं हैं जो योग द्वारा पूरी तरह ठीक हो जाती हैं।

अन्य किन प्रकार की बिमारियों की चिकित्सा की जा सकती है, क्या स्ट्रैस वगैरह का भी इलाज योग द्वारा संभव है?

स्ट्रैस तो एक सामान्य चीज है। तनाव के लिए तो योग एक सबसे मूल मँत्र है। इसके अतिरिक्त हार्ट के ब्लोकिज, आर्थराइटि्स, अस्थमा, हार्पटेंशन व डायबिटिज इत्यादि हैं। व्यक्ति की तमाम समस्याओं का योग द्वारा समाधान होता है और असाध्य रोगों का भी।

कुछ समय पूर्व सुनने में आया था कि भारत के राष्ट्रपति ने आपसे कुछ रोगियों की चिकित्सा करने के बारे में आग्रह किया था?

हाँ, वो हो रहा है और आगे भी होगा।

वे किस प्रकार के रोगी हैं जिनका आप राष्ट्रपति के आग्रह पर उपचार कर रहे हैं?

हमने मुख्य रूप से इन्हीं रोगों को चुना जैसे हार्ट के ब्लोकिज, डायबिटिज, मोटापा, आर्थराइटि्स और जो आम व्यक्ति की जिंदगी में बीमारियाँ हैं। करोङों लोग उनसे पीडित हैं, और वे बिना दवा के इससे स्वस्थ हो सकते हैं।

आप अपने कार्यक्रमों द्वारा अंधविश्वास भी दूर कर रहे हैं। सुनते हैं आप अंधविश्वास नहीं करते और भूत-प्रेत, ग्रह-दिशा इत्यादि में भी आपका अधिक विश्वास नहीं?

नहीं, हम इसमें विश्वास रखते ही नहीं। भूत-प्रेत, दिशाओं का चक्कर, ग्रहों का चक्कर और हमारे यहाँ समाज में धर्म के नाम पर जो अँधविश्वास किसी भी रूप में प्रचलित है हम उसका प्रखर विरोध इसलिए करते हैं कि अँधविश्वास हमारे धर्म के हिस्से कभी रहे ही नहीं। ये तो कुछ तथाकथित स्वार्थी लोगों ने धर्म के भीतर इन चीजो को जोड़ा हुआ है जिससे उनकी स्वार्थसिद्वि होती रहे। और धर्म के नाम से लोगों की श्रध्दा का और उनकी भावनाओं का, संवेदनाओं का शोषण होता रहे।

क्या आपको ऐसा आभास है कि भारत से बाहर बसे हुए भारतीय भारतीयता को अधिक अपनाते हैं, भारतीयता के प्रति अधिक आकर्षित हैं और योग एवं अध्यात्म में गहरी रूचि रखते हैं।

पहली बात तो यह है कि भारत में बसे हुए भारतीयों में भी योग के प्रति अभिरूचि हमने जगाई है। जहाँ तक बाहर के लोगों की बात है जब व्यक्ति को जो चीज नहीं मिलती उसकी भूख उसको जागती है। भारत से बाहर बसे भारतीयों को भारत की परम्पराएं, भारत की मर्यादाएं, भारत के नियम और भारत की व्यवस्थाएं और भारत का अध्यात्म इसलिए उनको रूचिकर लगता है क्योंकि उनको वो अध्यात्मिक परिवेश, वो साँसकृतिक परिवेश उनको वहाँ नहीं मिलता। इन सबके न मिलने से इनकी महत्ता उनको समझ आती है और वो लोग फिर उस चीज को महत्व देने लग जाते है। हमारे यहाँ धर्म सहज सुलभ है इसलिए धर्म को हम बहुत ध्यान नहीं दे पाते।

भारत जैसी महार्षियों और देव भूमि पर इतने भ्रष्टाचार फैलने का आप क्या कारण समझते हैं?

देखिए, सब चीजे हमारे विचारों और संकल्प से जुडी हुई हैं। जब हमारा संकल्प पवित्र होता है तब सब कुछ सही हो जाता है। योग के साथ-साथ हम देश को इन मुद्दों से भी जोड़ते हैं कि हमारे देश में भ्रष्ट राजनेता, भ्रष्ट अधिकारी, रिश्वतखोर इन सब लोगों का एक तरह से सफाया होना चाहिए और यह देश दोबारा से अपनी प्राचीन साँस्कृतिक पहचान को - सत्य, अहिंसा, ईमानदारी और इंसानियत इन मूल्यों को दुबारा अपनाये। मैं ऐसा समझता हूँ कि भारत में अच्छे लोग बहुत ज्यादा हैं और थोड़े लोग हैं जो भ्रष्ट हैं। थोड़े से भ्रष्ट लोगों के कारण से देश को भ्रष्ट कहना ठीक नहीं होगा। इसलिए बेहतर है कि हम उन थोड़े से भ्रष्ट लोगों का बहिष्कार करके समाज में ऐसे मूल्यों की स्थापना करें जिससे कि उन लोगों का अपमान हो। वे अपमानित हों और अवमानित हों। तो फिर यह देश आज भी महान है, कल भी महान था और कल और महान ही बनेगा।

भारत से बाहर बसे भारतीयों को आप योगा और अध्यात्म का क्या संदेश देना चाहेंगे?

एक तो योग बोलो। योग जो है हमारी भारतीय सँस्कृति का शब्द है। योगा कहने से हमारी भारतीय मूल का अपभ्रंश हो जाता है।

भारत से बाहर बसे भारतीयों के लिए यही संदेश है कि भारत की माटी जहाँ सबसे पहले सूर्य उदय होता है, भारत की वह माटी जहाँ भगवानों ने भी अवतार लिए भारत की यह पवित्र गँगा और यह हिमालय मायने भारत की जो भी हमारी साँस्कृतिक धरोहर हैं और जो भी भगवान ने इस भारत पर इतनी कृपा की कि आज दुनिया की बडी हस्तियां भी कहती हैं कि हमारा जन्म भारतभूमि में होना चाहिए। भारत माता को बाहर बसे भारतीयों को भी नहीं भूलना चाहिए। भारत माता से मतलब भारत की परम्पराएं, भारत की आस्थाएं, भारत का अध्यात्म, भारत की मर्यादाएं। उन सब चीजों को हमें याद रखना चाहिए। और इसी का नाम भारत है।


- रोहित कुमार 'हैप्पी'

 

Previous Page   Next Page

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

सर्वेक्षण

भारत-दर्शन का नया रूप-रंग आपको कैसा लगा?

अच्छा लगा
अच्छा नही लगा
पता नहीं
आप किस देश से हैं?

यहाँ क्लिक करके परिणाम देखें

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश