वह हृदय नहीं है पत्थर है, जिसमें स्वदेश का प्यार नहीं। - मैथिलीशरण गुप्त।

Find Us On:

English Hindi
Loading
सूरज दादा कहाँ गए तुम (बाल-साहित्य ) 
   
Author:आनन्द विश्वास (Anand Vishvas)

सूरज  दादा  कहाँ   गए  तुम,

काहे ईद  का  चाँद  भए तुम।


घना
   अँधेरा,  काला - काला,

दिन निकला पर नहीं उजाला।

कोहरे   ने  कोहराम  मचाया,

पारा  गिर  कर  नीचे  आया।

काले  बादल   जिया   डराते,

हॉरर-शो  सा  दृश्य  दिखाते।

बर्षा  रानी   आँख   दिखाती,

झम झम झम पानी बरसाती।

 

काले - काले    बादल   आते,

उमड़-घुमड़  कर शोर मचाते।

नन्हीं - नन्हीं  बूँद  कभी  तो,

कभी ज़ोर  की  बारिश लाते।


सर्द
  हवाऐं,  शीत  लहर  है,

बे-मौसम  बरसात, कहर  है।


*टच मी नॉट* कहे  अब पानी,

*बाहर ना जा* कहती  नानी।


कट - कट दाँत
  बजाते बाजा,

मौसम  अपना  बैण्ड बजाता।


सड़क,  गली,  कूँचे,  चौबारे,

सब   सूने  हैं   ठंड  के  मारे।

फुट - पाथी,   बेघर,  बेचारे,

इन सबके  तो  तुम्हीं  सहारे।


अब तो  सुन लो, सूरज दादा,

कल  आने  का  दे  दो  वादा।

- आनन्द विश्वास

 

Previous Page  | Index Page  |    Next Page

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश