परमात्मा से प्रार्थना है कि हिंदी का मार्ग निष्कंटक करें। - हरगोविंद सिंह।

Find Us On:

English Hindi
Loading
डा रामनिवास मानव के हाइकु  (काव्य) 
   
Author:डा रामनिवास मानव | Dr Ramniwas Manav

डॉ. 'मानव' हाइकु, दोहा, बालकाव्य तथा लघुकथा विधाओं के सुपरिचित राष्ट्रीय हस्ताक्षर हैं तथा विभिन्न विधाओं में लेखन करते हैं। उनके कुछ हाइकु यहाँ दिए जा रहे हैं:

१)

मोटी कमाई;
देश तो है बकरा,
नेता कसाई ।


२)

धक्कमपेल,
चल रहा देश में
कुर्सी का खेल ।


३)

पहनी खादी,
तिजोरी भरने की
मिली आजादी ।


४)

चेहरों पर
मुखौटे-ही-मुखौटे,
मैं-तुम कौन ?


५)

हिन्दू-मुस्लिम,
जैन-बोद्ध-ईसाई,
किसके भाई !


६)

हिंसा का दौर,
शहरों में बसते
आदमख़ोर ।

 

७)

सौ-सौ फ़क़ीर,
लेकिन है एक भी
नहीं कबीर ।

 

८)

कैसी दलील !
जज तो हैं बहरे,
अंधे वकील ।

 

९)

काम न धंधा
गले में ग़रीब के
भूख का फंदा ।

 

१०)

फटी कमीज़
उधड़े सब धागे;
क्या होगा आगे !

 

- डा. रामनिवास मानव

 

Previous Page  | Index Page  |    Next Page

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश