अहिंदी भाषा-भाषी प्रांतों के लोग भी सरलता से टूटी-फूटी हिंदी बोलकर अपना काम चला लेते हैं। - अनंतशयनम् आयंगार।

Find Us On:

English Hindi
Loading

सबको लड़ने ही पड़े : दोहे  (काव्य)

Author: ज़हीर कुरैशी

बहुत बुरों के बीच से, करना पड़ा चुनाव ।
अच्छे लोगों का हुआ, इतना अधिक अभाव ।।


कहते हैं कुछ और वो, करते हैं कुछ और ।
ऐसे जन नायक बने, जनता के सिर मोर ।।


भरी जवानी में हुए घर को छोड़, फ़कीर ।
मरते दम तक भी उन्हें, चुभे मोह के तीर।।


घावों पर रखने लगे, शुद्ध नमक का प्यार
कलयुग में इतने बढ़े, मित्रों के अधिकार ।।


सबको लड़ने ही पड़े, अपने-अपने युद्ध ।
चाहे राजाराम हो, चाहे गौतम बुद्ध ।।


- ज़हीर कुरैशी


[ शोध दिशा 1994]

Back

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश