हिंदुस्तान की भाषा हिंदी है और उसका दृश्यरूप या उसकी लिपि सर्वगुणकारी नागरी ही है। - गोपाललाल खत्री।

Find Us On:

English Hindi
Loading

लोकतंत्र का ड्रामा देख  (काव्य)

Author: हलचल हरियाणवी

विदुर से नीति नहीं
चाणक्य चरित्र कहां
कुर्सी पर जा बैठे हैं
शकुनी-से मामा देख

कान्हा धनकुबेरों की
कोठियों में छुप गए
रो रहा खड़ा बेचारा
गली में सुदामा देख

आपस में हाथापाई
संसद अखाड़ा बनी
रोजाना ही हो रहा है
हो-हल्ला हंगामा देख

जन गण मन...
अधिनायक की जय बोलें
धर्मनिरपेक्ष लोकतंत्र
का ड्रामा देख

- हलचल हरियाणवी
[हलचल हरियाणवी के चौके-छक्के, अर्पित प्रकाशन]

 

Back

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश