हिंदी के पुराने साहित्य का पुनरुद्धार प्रत्येक साहित्यिक का पुनीत कर्तव्य है। - पीताम्बरदत्त बड़थ्वाल।

Find Us On:

English Hindi
Loading

दो ग़ज़लें  (काव्य)

Author: शांती स्वरुप मिश्र

शीशे का है दिल, ठोकर मत लगाना मुझको !
बाज़ारे इश्क़ में, तमाशा मत बनाना मुझको !

तुमको रखा है ख्वाबों सा पलकों में सजा के,
बेसबब अपनी नज़रों से, मत गिराना मुझको !

छोड़ कर दुनिया को थामा है तेरा दामन मैंने,
कभी फरेबों के जाल में ,मत फ़साना मुझको !

गुज़री है उम्र सारी, जाने कितनी आफतों से
ख़ुदा के वास्ते ,अब और मत सताना मुझको !

तमन्ना है कि ख़ुशी से गुजारूं ये ज़िंदगी "मिश्र",
अब ग़मों की भूली दास्तां, मत सुनाना मुझको !

- शांती स्वरुप मिश्र
  ई-मेल: mishrass1952@gmail.com

 

2

 

हूँ परेशान मगर, नाराज़ नहीं हूँ !
झूठे सपनों का, मोहताज़ नहीं हूँ !

जिया हूँ ग़मों में भी मज़े के साथ,
मैं बिगड़े सुरों का, साज़ नहीं हूँ !

देख लिए सभी ने सितम ढा कर,
मैं उनकी तरह, दगाबाज़ नहीं हूँ !

रिश्तों को निभाया जतन से मैंने,
पर चुप रहूँ मैं, वो आवाज़ नहीं हूँ !

ईमान से जीने का आदी हूँ "मिश्र",
मैं कोई दिल में छुपा, राज़ नहीं हूँ !

- शांती स्वरुप मिश्र
  ई-मेल: mishrass1952@gmail.com

 

Back

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश