साहित्य का स्रोत जनता का जीवन है। - गणेशशंकर विद्यार्थी।

Find Us On:

English Hindi
Loading

फ़क़ीर का उपदेश (बाल-साहित्य )

Author: भारत-दर्शन संकलन

एक बार गाँव में एक बूढ़ा फ़क़ीर आया । उसने गाँव के बाहर अपना आसन जमाया । वह बड़ा होशियार फ़क़ीर था । वह लोगों को बहुत सी अच्छी-अच्छी बातें बतलाता था । थोड़े ही दिनों में वह मशहूर हो गया । सभी लोग उसके पास कुछ न कुछ पूछने को पहुँचते थे । वह सबको
अच्छी सीख देता था ।

गाँव में एक किसान रहता था । उसका नाम रामगुलाम था । उसके पास बहुत सी ज़मीन थी, लेकिन फिर भी रामगुलाम सदा गरीब रहता था । उसकी खेती कभी अच्छी नहीं होती थी ।

धीरे-धीरे रामगुलाम पर बहुत सा क़र्ज़ हो गया । रोज़ महाजन उसे रुपये के लिए तंग करने लगा । लेकिन खेतों में अब भी कुछ पैदा नहीं होता था । रामगुलाम ख़ुद तो खेतों में बहुत कम जाता था । वह सारा काम नौकरों से लेता था । उसके यहाँ दो नौकर थे । वे जैसा चाहते, वैसा करते थे ।

आखिर महाजन से तंग आकर रामगुलाम ने अपनी आधी ज़मीन बेच दी । अब आधी ज़मीन ही सके पास रह गई ।

जिन खेनों में बहुत कम पैदावार होती थी वही रामगुलाम ने बेच दिये थे ।  जिस किसान ने उसकी ज़मीन ली थी वह बड़ा मेहनती था । वह अपना सारा काम अपने हाथों से करने की हिम्मत रखता था । जो काम उससे न होता वह मजदूरों से कराता, पर रहता सदा उनके साथ ही साथ था । वह कभी अपना काम मज़दूरों के भरोसे नहीं छोड़ता था ।

पहली ही फ़सल में उस किसान ने उन खेतों को इतना अच्छा बना दिया कि उनमें चौगुनी फ़सल हुई । रामगुलाम ने जब यह देखा तो वह अपने भाग्य को कोसने लगा । इधर उस पर और भी कर्ज़ हो गया और उसको बड़ी चिन्ता रहने लगी ।

आख़िर एक दिन वह भी उस फ़क़ीर के पास गया । उसने बड़े दुख के साथ अपने दुर्भाग्य की कहानी फ़क़ीर से कह सुनाई । फ़क़ीर ने सुनकर कहा-अच्छी बात है, कल हम तुम्हें बताएँगे ।

रामगुलाम चला आया । उसी रात को फ़क़ीर ने गाँव में जाकर रामगुलाम की दशा का सब पता लगा लिया । दूसरे दिन उसने रामगुलाम के पहुँचने पर कहा- तुम्हारे भाग्य का भेद सिर्फ 'जाओ और आओ' में है । वह किसान 'आओ' कहता है और तुम 'जाओ' कहते हो । इसी से उसके ख़ूब पैदावार होती है, और तुम्हारे कुछ नहीं ।

रामगुलाम कुछ भी न समझा । तब फ़क़ीर ने फिर कहा--तुम खेती का सारा काम मज़दूरों पर छोड़ देते हो । तुम उनसे कहते हो--जाओ ऐसा करो, पर ख़ुद न उनके साथ जाते हो, न काम करते हो । पर वह किसान मज़दूरों से कहता है-आओ, खेत चलें' । वह उनके साथ-साथ जाता
है, और साथ-साथ मेहनत करता है । मज़दूर भी उसके डर से ख़ूब मेहनत करते हैं । तुम्हारे मज़दूरों की तरह वे मनमाना काम नहीं करते । इसलिए अगर तुम चाहते हो कि तुम्हारे खेतों में भी ख़ूब पैदावार हो तो 'जाओ' छोड़कर 'आओ' के अनुसार चलना सीखो ।

रामगुलाम ने फ़क़ीर की बात मान जी । उस दिन से आलस्य न्यागकर वह अपने खेत में मज़दूरों के साथ कड़ी मेहनत करने लगा । अब उसके उन्हीं खेतों में ख़ूब फ़सल होने लगी ।

[साभार-बालबोध]

Back

Comment using facebook

 
Post Comment
 
Name:
Email:
Content:
Type a word in English and press SPACE to transliterate.
Press CTRL+G to switch between English and the Hindi language.
 
 
 
 

सब्स्क्रिप्शन

इस अंक में

 

इस अंक की समग्र सामग्री पढ़ें

 

 

सम्पर्क करें

आपका नाम
ई-मेल
संदेश